Friday , July 19 2024
Breaking News

वार्ड नं.-4 में सरकारी सीमेंट की करीबन 50 बोरियां पत्थर होने का मामला आया सामने

जवाली विधानसभा क्षेत्र के अधीन ग्राम पंचायत आंबल ठेहडू के वार्ड नं.-चार में सरकारी सीमेंट की करीबन 50 बोरियां पत्थर होने का मामला उजागर हुआ है। प्राप्त जानकारी अनुसार वार्ड नं-चार निवासी फौजा कुमार ने सामुदायिक भवन निर्माण के लिए तीन मरला बेशकीमती जमीन दान की थी तथा पंचायत द्वारा वर्ष 2023 में सामुदायिक भवन निर्माण के लिए 50बोरी सरकारी सीमेंट वार्ड सदस्य को इशू किया गया जिसको फौजा कुमार की गौशाला में रख दिया गया। आजतक सामुदायिक भवन का निर्माणकार्य शुरू नहीं हो पाया है। सरकारी सीमेंट की बोरियां पत्थर में तबदील हो गई हैं। सरकारी सीमेंट खराब होने से राजस्व को भी चूना लगा है। हर कोई एक-दूसरे पर इसका दोष लगा रहा है तथा अपना-अपना पल्लू झाड़ रहा है। आखिरकार इस सरकारी सीमेंट का प्रयोग क्यों नहीं हुआ, यह जांच का विषय बना हुआ है। बुद्धिजीवियों ने मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू, पंचायती राज मंत्री अनिरुद्ध सिंह, जिलाधीश कांगड़ा हेमराज बैरवा, एसडीएम जवाली विचित्र सिंह व बीडीओ नगरोटा सूरियां से मांग की है कि इसकी उच्च स्तरीय जांच की जाए तथा जो भी दोषी पाया जाए, उसके खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाए।

उपप्रधान गणेश शर्मा का आरोप….
इस बारे पंचायत उपप्रधान गणेश शर्मा ने कहा कि पंचायत में विभिन्न विकासकार्यों के लिए विधायक निधि व मनरेगा के गत वर्ष सीमेंट सरकार की तरफ से जारी किया गया था लेकिन उसका समय पर उपयोग न होने से पत्थर बन चुका है। उन्होंने इस मामले की जांच की मांग उठाई है।

प्रधान केवल चौहान के बोल……
जब इस बारे में पंचायत आंबल ठेहडू के प्रधान केवल चौहान ने कहा कि कि पहले रास्ते की दिक्कत थी तथा पंचायत सचिव द्वारा दो साल से निविदा भी नहीं डाली ही है जिस कारण काम नहीं लग पा रहा है व सीमेंट खराब हो गया है।

पंचायत सचिव कुलबन्त सिंह के बोल……..
इस बारे में पंचायत सचिव कुलबन्त सिंह ने कहा कि मैंने सीमेंट वार्ड सदस्य को इशू कर दिया था। उसके द्वारा काम नहीं लगवाया गया और सीमेंट खराब हो गया।

About Ritik Thakur

Check Also

शिमला में लोगों की परेशानी बढ़ा रही बारिश, लोकल बस स्टैंड के नजदीक भूस्खलन से आवाजाही प्रभावित

शिमला: बीते साल की तरह इस साल भी मानसून की बारिश आम लोगों की परेशानी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *