पांच राज्यों के नतीजों के बाद बिहार महागठबंधन में बढ़ती जा रही मुश्किलें

anvnews

पटना [जेएनएन]। पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के रिजल्ट का असर बिहार में भी दिख रहा है। बिहार के महागठबंधन की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं तो वहीं नए सिरे से कयासों का दौर जारी है। राजद के बड़बोले नेता पार्टी के उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को काफी कुछ कहा, जिसपर जदयू ने करारा प्रहार किया है। जदयू के प्रवक्ता नीरज कुमार ने रघुवंश प्रसाद सिंह को खुद को कंट्रोल में रखने की हिदायत देते हुए ये तक कह डाला कि हमारी पार्टी ने राजद के साथ गठबंधन किया है, विलय नहीं। उन्होंने कहा कि यूपी चुनाव को लेकर रघुवंश प्रसाद जो अनाप-शनाप बक रहे हैं कि नीतीश कुमार ने चुप्पी साध ली थी, इससे राजद को हमारी हैसियत का पता चल गया है।उन्होंने कहा कि लालू यादव को फिर से एक बार कहेंगे कि वो अपने पार्टी के नेताओं को कंट्रोल में रखें, नहीं तो मुश्किल हो सकती है। हमने अपमान की भाषा को बहुत बर्दाश्त किया और अब बर्दाश्त नहीं करेंगे। हमें भी जनादेश मिला है, गठबंधन है, जनता ने चाहा तभी सरकार चला रहे हैं। दरअसल, राजद के राष्ट्रीय उपाध्‍यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर यूपी की हार का ठीकरा नीतीश पर फोड़ते हुए कहा कि उनके व भाजपा के बीच मैच फिक्स था। रघुवंश ने नीतीश को अनाप-शनाप बयानों से परहेज करने तथा काम पर ध्यान  देने की सलाह भी दी।उन्होंने कहा कि यूपी विधानसभा चुनाव में भाजपा से नीतीश ने फिक्सिंग की थी। चुनाव के पहले जिस तरह तैयारी वे कर रहे थे, दिखा नहीं। चुनाव के दौरान नीतीश की चुप्पी भी उनकी मंशा पर सवाल उठा रही है। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश चुनाव की घोषणा से पहले जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में नीतीश ने कई रैलियां कीं। लगा, बिहार की तरह यूपी में भी धर्मनिरपेक्ष ताकतों के साथ वे आएंगे। उस समय लगा कि वे धर्मनिरपेक्ष ताकतों की गोलबंदी बिहार का तरह उत्तर प्रदेश में कर रहे हैं।मगर, जैसे ही तिथि घोषित हुई, नीतीश ने चुनाव नहीं लडऩे की घोषणा कर दी। साथ ही चुप्पी साध तटस्थ हो गए। भाजपा के खिलाफ नहीं बोले। कोई ऐसा कार्यक्रम नहीं किया जिससे लगे कि वे महागठबंधन के साथ हैं।होली मिलन के मौके पर बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव ने जेडीयू के नेता संजय सिंह और श्याम रजक से मिलकर होली की बधाई क्या दी? उसे लेकर राजद नेताओं ने तूफान मचा दिया है। राजद के नेता भाई वीरेंद्र ने कहा कि हमारी बहुमत है और ये अंदर ही अंदर जो खिचड़ी पक रही है उसकी खबर हमें भी है। इसपर प्रतिक्रिया देते हुए संजय सिंह ने कहा कि होली को लेकर राजनीति करने का क्या मतलब है?बीजेपी ने कहा-  नीतीश गुजर रहे पीडा़ से, कांग्रेस ने जतायी नाराजगीइन सबके बीच बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष मंगल पांडे ने कहा कि जिस राजनीतिक पीड़ा से नीतीश कुमार गुजर रहे हैं, जिससे नीतीश की छवि पर असर पड़ रहा है उससे लगता है कि नीतीश कुमार उसे लंबे दिनों तक नहीं झेल पाएंगे।मंगल पांडेय के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अौर बिहार के शिक्षामंत्री अशोक चौधरी ने कड़ी आपत्ति जताई और बीजेपी के नीतीश के प्रति सॉफ्ट कॉर्नर पर तंज कसते हुए कहा कि बीजेपी नेताओं का स्वागत है आकर शामिल हो जाएं महागठबंधन में। नीतीश ने दी थी बीजेपी को बधाई, बतायी थी हार की वजह बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक रिलीज जारी कर बीजेपी को जीत की बधाई दी है। साथ ही नीतीश ने यूपी में सपा-कांग्रेस की करारी हार की वजह भी बताई है। नीतीश ने कहा कि जहां तक यूपी में हार की बात है तो पिछड़े वर्गों के बड़े तबके ने बीजेपी को समर्थन किया है। साथ ही गैर बीजेपी पार्टियों ने इन्हें जोड़ने का कोई प्रयास नहीं किया। उन्होंने कहा कि यूपी में बिहार की तर्ज पर महागठबंधन भी नहीं हो पाया।नीतीश ने यह भी कहा कि नोटबंदी की इतना कड़ा विरोध करने की जरूरत नहीं थी, चूंकि इससे गरीब वर्ग के लोगों के मन में संतोष का भाव उत्पन्न हुआ था और उन्हें लगता था कि इससे अमीर लोगों को चोट पहुंची है। उन्होंने कहा कि लेकिन कई पार्टियों ने इसे नजरअंदाज कर दिया।

anvnews anvnews anvnews anvnews
anvnews
anvnews