जाट आरक्षण संघर्ष समिति ने बदली रणनीति, महिलाएं भी करेंगी संसद का घेराव

anvnews

गोहाना के लाठ जोली गांव में जाट आरक्षण समेत सात मांगाें को पूरा कराने के लिए पिछले 47 से दिन से धरने पर बैठे जाट समुदाय के लोगों ने दिल्ली कूच कार्यक्रम के लिए तैयार की गई रणनीति में कुछ बदलाव किया है। बताया जा रहा है कि अब दिल्ली कूच में महिलाएं भी भाग लेंगी तथा पुरुषों के कंधे से कंधा मिलाकर आगे बढ़ेंगी। जाट आरक्षण संघर्ष समिति द्वारा उनके लिए विशेष रूप से ट्रैक्टर-ट्रालियों की व्यवस्था कराई जा रही है। इसके इलावा अब दिल्ली जाने के लिए पांच लोगों की टीम गठित की गई है, वह जो फैसला सुनाएगी उसी के तहत आगे काम किया जाएगा। जाट नेताओं का कहना है कि हम अपनी मांगों को मनवाकर रहेंगे, चाहे सरकार कुछ भी करे। जब तक सरकार हमारी मांगों को नहीं मान लेती हम धरना खत्म नहीं करेंगे। उनका कहना है कि वे अपने साथ किसी तरह का कोई हथियार लेकर नहीं जाएंगे। वहीं दिल्ली में संसद घेराव की बात को देखते हुए आज पानीपत में जाट नेताअों के साथ तीसरे दौर की वार्ता होने जा रही है। उसके बाद ही आगे की रणनीति साफ हो सकेगी कि सरकार व जाट नेताओं में क्या सहमति बन पाती है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की मानें तो जाट नेताओं को 20 मार्च से पहले ही मनाने की बात कह रहे थे। 
 

anvnews anvnews anvnews anvnews
anvnews
anvnews