2 डाकघरों में 10 के सिक्के लेने से किया मना, वीडियो बना कंप्लेन भेजी तो बैठी जांच

anvnews

रोहतक.आरबीआई से लेकर शासन-प्रशासन तक के तमाम आदेशों व गाइडलाइन के बावजूद दस रुपए के सिक्के न लेकर भारतीय मुद्रा का अपमान बदस्तूर जारी है। आम आदमी या दुकानदार तो दूर, खुद सरकारी महकमे भी नियमों की अनदेखी कर रहे हैं। शहर के दो डाकघरों के कर्मचारियों ने दस रुपए के सिक्के लेने से साफ इंकार कर दिया। इतना ही नहीं, एक डाकघर की कर्मचारी ने तो दस के सिक्के को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी पर भी टिप्पणी की। इस पर पीड़ित ने दोनों कर्मचारियों की वीडियो रिकॉर्डिंग कर चीफ पोस्टमास्टर जनरल को शिकायत की तो महकमे में हड़कंप मच गया। बहरहाल, मामले की जांच के आदेश देते हुए उच्चाधिकारियों ने रिपोर्ट तलब की है।
1. रेलवे स्टेशन डाकघर
अधिकारियों ने मना किया हुआ है, इसलिए नहीं ले रहे सिक्के
जनता कॉलोनी निवासी फूल कंवार का कहना है कि 3 मार्च की शाम वह अपने पत्र की रजिस्टर्ड पोस्ट कराने के लिए रेलवे स्टेशन पोस्ट ऑफिस गया। शुल्क की एवज में उसने दस रुपए के तीन सिक्के एसए आरएमएस (रेलवे मेल सर्विस) महिला कर्मचारी को दिए तो उसने सिक्के लेने से साफ इंकार कर दिया। फूल कंवार ने आरबीआई की गाइडलाइन का हवाला भी दिया, लेकिन कर्मचारी ने सिक्के स्वीकार करने से साफ इंकार दिया। उसने कहा कि उच्चाधिकारियों ने दस के सिक्के लेने से साफ इंकार किया हुआ है, इसीलिए वह सिक्के नहीं लेते।
2. शिवाजी कॉलोनी डाकघर
पीएम सिक्के छपवाते ही क्यों हैं, टिकट फ्री में दे दूंगी लेकिन सिक्के नहीं लूंगी
अगले ही दिन 4 मार्च को फुल कंवार सुबह 11:09 बजे व शाम 3:53 मिनट पर पोस्ट ऑफिस शिवाजी कॉलोनी में डाक टिकट खरीदने गए। वहां बीपीएम तैनात महिला कर्मचारी ने भी दस के सिक्के लेने से साफ मना कर दिया। फूल कंवार से कहा कि उनके पास दस के सिक्कों की भरमार है, अगर जरूरत हो तो वह उनसे ले जाए। कर्मचारी यहीं नहीं रुकी और सिक्के बनाने को लेकर उसने पीएम मोदी पर भी टिप्पणी की। कहा कि उसकी तनख्वाह 60 हजार है। वह उसे डाक टिकट फ्री में दे देगी, लेकिन सिक्के स्वीकार नहीं करेगी।
दोनों की वीडियो क्लिप संलग्न कर शिकायत की तो शुरू हुई जांच
फूल कंवार ने दोनों डाकघरों की कर्मचारियों की वीडियो क्लिप बनाई और उसकी सीडी संलग्न कर चीफ पोस्ट मास्टर जनरल को शिकायत कर दी। मामले पर संज्ञान लेते हुए हरियाणा सर्कल के असिस्टेंट डायरेक्टर (पीजी) ने 8 अप्रैल को एसआरएम (डी) डिवीजन व रोहतक डाकघर अधीक्षक को निर्देशित किया। शिवाजी कॉलोनी डाकघर की कर्मचारी की जांच के लिए रोहतक मंडल के डाकघर निरीक्षक अजय कथूरिया 14 मार्च तथा रेलवे स्टेशन डाकघर की कर्मचारी की जांच करने के लिए एसआरएम दिल्ली के इंस्पेक्टर देवेंद्र रंगा 18 मार्च को फूल कंवार के पास पहुंचे और बयान दर्ज किए।
असली-नकली की वजह से फैली हुई है भ्रांतियां : लगभग छह माह पहले 10 रुपए के सिक्कों को लेकर अफवाह फैली कि मार्केट में नकली सिक्के आए हुए हैं। नकली सिक्के बनाने में एक दर्जन लोगों को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार भी किया। वहीं, आरबीआई की ओर से गाइडलाइन जारी हुई कि कोई भी सिक्का नकली नहीं है। कोई भी व्यक्ति व सरकारी कर्मचारी 10 के सिक्के को लेने से मना नहीं कर सकता। यह भारतीय मुद्रा का अपमान है।

anvnews anvnews anvnews anvnews
anvnews
anvnews