89 सालों से ये दुल्हन कर रही है दूल्हे का इंतजार, कमरे में गूंजती हैं आवाजें

दुनिया में जितनी खुशियां हैं, उतना ही गम भी है। लेकिन कहते हैं सबसे बड़ा गम होता है, इंसान के दिल के टूट जाने का गम। साल 1927 में कुछ ऐसा ही एरिजोना में प्रेसकॉट के एक होटल में हुआ था, जब एक तन्हा दिल टूटा था। उस टूटे दिल की तड़प आज भी इस होटल को अपने आंसुओं से भिगोए हुए है। इस दर्दभरी कहानी को जानकर आप भी सहम जाएंगे।फेथ समर्स नाम की एक नई नवेली दुल्हन अपने पति के साथ हनीमून मनाने के लिए इस होटल के कमरा नंबर 426 में रहने आई थी। अगले दिन उसका पति सिगरेट खरीदने के लिए होटल से बाहर गया और फिर कभी वापिस नहीं लौटा। किसी को नहीं पता चला कि वो आखिर कहां गया। उस दिन के बाद उसे किसी ने नहीं देखा। फेथ तीन दिन तक होटल के उस कमरे में उसका इंतजार करती रही। इसके बाद जब उसकी तकलीफ ने सारी हदें पार कर ली तो 'फेथ' ने फांसी लगाकर अपनी जान ले ली। उस डरावने दिन से लेकर आज तक दुल्हन की आत्मा इस होटल में भटक रही है। वो चाह कर भी इस होटल को छोड़ नहीं पाती। होटल में आने वाले अनेक मेहमानों और होटल स्टाफ ने कई बार उसे होटल के गलियारों में भटकते हुए देखा है। आज भी लोगों को कमरा नंबर 426 में मौजूद बेड के किनारे पर फेथ के रोने की आवाजें सुनाई देती हैं। इस कमरे की भी कुछ अजीब कहानियां हैं। जब भी कोई औरत इस कमरे में रहने आती है, तो 'फेथ' अपना प्यार जताते हुए उनके पैरों की मसाज कर उन्हें आराम देती है। पर जब भी कोई मर्द इस कमरे में रहने आता है, तो उसे रात को डरावने सपने आते हैं। 


Videos
ज़रा हटके