CM ने कहा, न ऑफिस शिफ्ट होंगे न कर्मचारी, धूमल बोले-ऐसी राजधानी का क्या फायदा

anvnews

मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा है कि धर्मशाला दूसरी राजधानी ही रहेगी, लेकिन शिमला से न तो कोई ऑफिस शिफ्ट होगा और न ही यहां से कर्मचारी-अधिकारी भेजे जाएंगे। अगर जरूरत पड़ी तो दूसरी राजधानी में नई भर्तियां की जाएंगी।
उन्होंने कहा कि सरकार ने करीब डेढ़ लाख युवाओं को बेरोजगारी भत्ता देने का प्रावधान किया है। साथ ही युवाओं को प्रशिक्षण देने के लिए कौशल विकास भत्ता भी दिया जाएगा। युवाओं को भत्ता उनकी जरूरतों को देखते हुए ही दिया जाएगा, सरकार कौशल बढ़ाने पर भी जोर देगी।
मुख्यमंत्री शुक्रवार को विधानसभा में बजट पर चर्चा का जवाब दे रहे थे। उन्होंने बजट चर्चा के दौरान नेता प्रतिपक्ष प्रेम कुमार धूमल और अन्य विधायकों की ओर से उठाए मसलों का एक-एक करके जवाब दिया।
सीएम ने कहा कि प्रदेश के लोगों और वित्त विशेषज्ञों ने सरकार के बजट को सराहा है। मुख्यमंत्री का जवाब पूरा होने से पहले ही नेता प्रतिपक्ष धूमल और पूरा विपक्ष सदन से बाहर चला गया। इस पर स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह ठाकुर ने विधानसभा अध्यक्ष से इसे वाकआउट न मानने की गुजारिश की।
उन्होंने दलील दी कि नेता प्रतिपक्ष ने अपने वक्तव्य के दौरान कहा कि उन्हें जरूरी काम है, इसलिए वह जा रहे हैं। विपक्ष के विधायक उनके पीछे चले गए न कि वाकआउट किया। हालांकि स्पीकर ने उनकी इस मांग पर कोई फैसला नहीं दिया।

anvnews anvnews anvnews anvnews
anvnews
anvnews