चलती ट्रेन में नाबालिग से छेड़छाड़, बेटी के साथ ट्रैक पर कूदी मां

anvnews


कानपुर.यहा के चंदारी रेलवे स्टेशन पर शनिवार रात करीब 10 बजे ट्रैक के किनारे एक नाबालिग लड़की घायल मिली। उसके साथ उसकी मां भी। महिला का आरोप है कि ट्रेन में कुछ बदमाशों ने उसकी बेटी के साथ काफी देर तक छेड़छाड़ की। बेटी को बचाने के लिए वो उसे लेकर चलती ट्रेन से कूद गई। जीआरपी ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ छेड़खानी का मुकदमा दर्ज कर लिया है। वहीं, पीड़ित मां-बेटी को दिल्ली के लिए रवाना कर दिया गया है

- कोलकाता की रहने वाली महिला हावड़ा-जोधपुर एक्सप्रेस (12307) से दिल्ली अपने पति के पास जा रही थी। उसके साथ 14 साल की बेटी भी सफर कर रही थी।
- महिला ने बताया कि हावड़ा से ही कुछ लड़के ट्रेन में सवार हुए। रास्ते भर वो उसकी बेटी को परेशान कर रहे थे। महिला ने इसकी शिकायत ट्रेन में मौजूद रेलवे पुलिस से की, लेकिन कोई एक्शन नहीं लिया गया।

- महिला ने बताया, इसके बाद बदमाशों ने हद पार कर दी। महिला ने इलाहाबाद स्टेशन पर उनकी शिकायत जीआरपी से की। 3 लड़कों को ट्रेन से उतार लिया गया और पूछताछ के बाद फौरन छोड़ भी दिया गया।
- उन्होंने बताया कि अगले स्टेशन पर फिर वो लड़के ट्रेन में चढ़ गए और इस बार दोनों से अश्लील हरकतें करने लगे। जब महिला को लगा कि अब परेशानी बढ़ गई है तो उसने बेटी के साथ चलती ट्रेन से छलांग लगा दी।

- मां-बेटी को ट्रेन से छलांग लगाते देख ट्रेन के गार्ड ने घटना की जानकारी जीआरपी अफसरों को दी। जीआरपी घटनास्थल पर पहुंची और महिला और उसकी बेटी को इलाज के लिए हैलट अस्पताल में भर्ती कराया। यहां उनकी हालत ठीक होने पर 
- कानपुर सेन्ट्रल के जीआरपी इंस्पेक्टर राम मोहन राय के मुताबिक- अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। उनकी तलाश की जा रही है। सीसीटीवी से उनकी पहचान की कोशिश की जा रही है।
- महिला का आरोप हैं कि अगर रेलवे पुलिस उनकी शिकायत पर वक्त रहते कार्रवाई करती तो ये घटना नहीं होती।

ऐसा ही एक मामला सीतापुर से भी 25 अक्टूबर को सामने आया था। जहां, एक शख्स ने चलती ट्रेन से अपनी 4 बेटियों को फेंक दिया था। इसमें एक बच्ची की मौत हो गई, जबकि 3 गंभीर रूप से घायल हुईं थीं। इसके बाद जब पुलिस ने आरोपी की पत्नी से पूछताछ की तो सारा मामला सामने आ गया।

आरोपी की पत्नी आफरीन ने 12 घंटे की पूछताछ में पुलिस को पति के हैवानियत की कहानी सुनाई। आफरीन ने कहा- "पति और अपनी 5 बेटियों के साथ ट्रेन में सफर कर रही थी। वारदात के वक्त सो रही थी। मेरे आंख खुलने तक उसके पति इद्दू ने 4 बेटियों को फेंक दिया था। मैं उसकी हैवानियत देखकर डर गई, छोटी बेटी शहजादी के साथ ट्रेन से उतर गई। अगर उसे लेकर नहीं भागती तो वह उसे मार देता।
-आफरीन ने बताया, ‘मैं पति इद्दू व 5 बेटियों के साथ बिहार के जगदीशपुर रेलवे स्टेशन से जम्मू के लिए रवाना हुई। इद्दू नशे में था। जिस बोगी में हम थे, उसमें काफी कम लोग थे। इस बीच मैं सो गई। जब नींद खुली और बेटियां नहीं दिखीं, तब उसने इद्दू से पूछा। वह गाली देते हुए बोला, 5-5 बेटियां पैदा कर दी, इन्हें खिलाऊंगा कहां से, इसलिए फेंक दिया।
- "मैं डरकर चुप हो गई कि वह मेरी हत्या न कर दें। इसलिए चुप रही। ट्रेन के जम्मू पहुंचते ही, वह हसीना को लेकर भाग निकली और मायके बिहार पहुंच गई।" जीआरपी ने इस मामले में इद्दू पर केस दर्ज किया है।

anvnews anvnews anvnews anvnews
anvnews
anvnews