बदमाशों ने बैंक खातों से रुपये उड़ाने का बदल दिया है ट्रेंड।

anvnews

बदमाशों ने बैंक खातों से रुपये उड़ाने का ट्रेंड बदल दिया है। अब वह न तो डेबिट और क्रेडिट कार्ड का नंबर पूछ रहे हैं और न ही पिन। अब वह लोगों को बैंक खाता आधार से लिंक कराने के नाम पर फोन कर रहे हैं और आगे की प्रक्रिया पूरी होते-होते पैसा निकाल लेते हैं। 
गिरोह के सदस्य फोन पर लोगों को बताते हैं कि बैंक से उनके खाते और एटीएम कार्ड संबंधित जानकारी के लिए कोई फोन नहीं आता है इसलिए सावधान रहें और इनकी जानकारी न दें।
 अब्ब तक इस तरह की तीन वारदाते सामने आ चुकी है,,,, यह लुटेरे इस तरह से उड़ाते है लोगों के खतों से पैसे ,,,
वह स्वयं आधार कार्ड की डिटेल मांगते हैं तो लोग उन्हें बैैंक का प्रतिनिधि समझकर जानकारी दे देते हैं। साइबर अपराधी लोगों से आधार कार्ड खाते से लिंक करने के नाम पर मोबाइल पर आया ओटीपी पूछ लेते हैं और इसके बाद खाते, क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड में जो चाहे कर सकते हैं।
कुछ लोग आधार कार्ड खाते से लिंक कराने के नाम पर ठगी कर रहे हैं। ये लोगों के मोबाइल पर आया ओटीपी ले लेते हैं और फिर बैंक खाते और क्रेडिट कार्ड आदि को खुद ऑपरेट करते हैं। इसके बाद खाते में जो चाहे कर सकते हैं। इसलिए लोगों को आधार कार्ड, बैंक खाता और क्रेडिट कार्ड आदि के बारे में आए ओटीपी को किसी को भी नहीं देना चाहिए। विशेष बात यह है कि कोई भी व्यक्ति या बैंक आधार कार्ड या खाते की जानकारी नहीं मांगता है। यह साइबर अपराधियों द्वारा ही किया जाता है। अगर आधार को बैंक खाते से लिंक कराना है तो स्वयं ही बैंक जाकर कराएं या ऑनलाइन बैंकिंग से भी यह प्रक्रिया कर सकते हैं।

इस लिए आपसे हिदायत करता है की ,,,,
- बैंक और आरबीआई के नाम पर कोई व्यक्ति फोन करें तो उसे कोई जानकारी नहीं देनी है।
- आरबीआई और बैंक की ओर से कभी भी कोई फोन नहीं किया जाता। इसके लिए बैंकों में भी सूचना चस्पा होती है।
- आधार लिंक कराने या अन्य कार्य कराने के नाम पर ओटीपी कभी न दें।
- कोई इस तरह का फोन करेें तो बात करने से बचें।
- कोई बैंक खाते या एटीएम पिन संबंधी जानकारी मांगें तो समझ जाएं कि वह कोई धोखेबाज है।
- अपना काम स्वयं करें, किसी अन्य को पिन नंबर या ओटीपी न बताएं।

anvnews anvnews anvnews anvnews
anvnews
anvnews