डिप्टी सीएम के घर के बाहर प्रोटेस्ट,पुलिस बरसाईं लाठियां

anvnews

लखनऊ : महाराष्ट्र में दलितों पर हुए हमले के खिलाफ भारतीय दलित मुस्लिम एकता महासभा के वर्कर्स ने डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा के घर के सामने पुतला फूंकने की कोशिश की। ये सभी लोग RSS और बीजेपी के नेताओं का पुतला फूंकने की कोशिश की। मौके पर पहुंची पुलिस ने जमकर लाठियां बरसाईं। वहीं एक वर्कर को अरेस्ट भी कर लिया। नए साल पर पुणे में हुई थी हिंसा


- 1 जनवरी 1818 में कोरेगांव भीमा की लड़ाई में पेशवा बाजीराव द्वितीय पर अंग्रेजों ने जीत दर्ज की थी। इसमें दलित भी शामिल थे। बाद में अंग्रेजों ने कोरेगांव भीमा में अपनी जीत की याद में जयस्तंभ का निर्माण कराया था। आगे चल कर यह दलितों का प्रतीक बन गया था।
1 जनवरी को रिपब्लिक पार्टी ऑफ इंडिया (अठावले) ने जंग की 200वीं बरसी पर खास कार्यक्रम कराया था। इसमें महाराष्ट्र के खाद्य और नागरिक आपूर्ति मंत्री गिरीश बापट, बीजेपी सांसद अमर साबले, डिप्टी मेयर सिद्धार्थ डेंडे और अन्य नेता शामिल हुए। इस मौके पर देशभर से करीब 2 लाख दलित यहां इकट्ठा हुए थे। मराठा कम्युनिटी इस प्रोग्राम का विरोध कर रही थी।

-1 जनवरी को हुए कार्यक्रम के दौरान जब दलितों का एक समूह भीमा-कोरेगांव लड़ाई की 200वीं सालगिरह के कार्यक्रम में जा रहा था। इस बीच वढू बुद्रुक इलाके में छत्रपति शंभाजी महाराज के दर्शन करने जा रहा दूसरा गुट रास्ते में आ गया। यहां कहासुनी से बढ़कर बात हिंसा में बदल गई। इस हिंसा में एक युवक की मौत हो गई। 50 गाड़ियों में आग लगा दी गई।

मायावती ने दिया ये बयान
बीएसपी चीफ मायावती ने कहा, "महाराष्ट्र में कार्यक्रम के दौरान सरकार को सुरक्षा मुहैया करानी चाहिए थी। बीजेपी की सरकार ने ध्यान नहीं दिया। ये बीजेपी का षडयंत्र है। इसके पीछे बीजेपी, आरएसएस और जातिवादी ताकतों का हाथ है। ये नहीं चाहते कि दलित वर्ग के लोग अपने इतिहास को बरकरार रखें। ये नहीं चाहते हैं कि दलित सम्मान और गर्व के साथ जिंदगी बिताएं। जानबूझकर हिंसा कराई गई है।

बीजेपी ने मायावती पर साधा निशाना
बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने कहा, "मायावती की दलितों के प्रति चिंता और प्रेम सिर्फ दिखावा था। मायावती और जातीय राजनीतिक रोटी सेंकने के मौके तलाशती है। मायावती अगर दलित हितैषी होती, तब लोकसभा चुनावों में उन्हें करारी हार का सामना नहीं करना पड़ता। यूपी विधानसभा चुनाव में सरकार बनाने का दबाव करने वाली बीएसपी 20 सीटें भी नहीं मिली।"

anvnews anvnews anvnews anvnews
anvnews
anvnews