गुजरात के नवनिर्वाचित विधायक जिग्नेश मेवाणी की 'युवा हुंकार रैली' को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है

गुजरात के नवनिर्वाचित विधायक जिग्नेश मेवाणी की 'युवा हुंकार रैली' को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है. दिल्ली पुलिस ने जिग्नेश को पार्लियामेंट स्ट्रीट पर रैली करने की इजाजत नहीं दी है. लेकिन, मेवाणी रैली करने पर अड़े हुए हैं. पुलिस के परमिशन के बिना ही मेवाणी अपने समर्थकों के साथ पार्लियामेंट स्ट्रीट में रैली के लिए पहुंचे हैं. यहां पुलिस भारी पुलिस बल तैनात है.

मेवाणी का कहना है कि वह एक लोकतांत्रित देश के निर्वाचित विधायक हैं. उन्हें सरकार बोलने से क्यों रोक रही है? उन्होंने कहा, "पार्लियामेंट स्ट्रीट पर हमारा प्रदर्शन शांतिपूर्ण और लोकतंत्र के दायरे में होगा. फिर भी अगर पुलिस कोई कार्रवाई करती है, तो इससे बड़ा दुर्भाग्यपूर्ण और क्या हो सकता है पार्लियामेंट स्ट्रीट रवाना होने से पहले जिग्नेश ने मीडिया से बात की. उन्होंने कहा-"हम लोकतांत्रिक रूप से और शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन करने जा रहे हैं. सरकार हमें टारगेट कर रही है. क्या एक निर्वाचित प्रतिनिधि को बोलने की भी अनुमति नहीं है  जिग्नेश ने कहा-"अगर एक लोकतांत्रिक देश में एक निर्वाचित प्रतिनिधि को युवाओं की नौकरी, सोशल जस्टिस और दलितों-अल्पसंख्यकों के लिए बोलने नहीं दिया जाएगा, तो इससे इससे ज्यादा दुर्भाग्यपूर्ण और क्या होगा

Videos
गुजरात
post-image
गुजरात

मुंबई के घाटकोपर में वर्ष 2002 में हुए बम विस्फोट के फरार आरोपित को बुधवार को कर लिया गिरफ्तार

मुंबई के घाटकोपर में वर्ष 2002 में हुए बम विस्फोट के फरार आरोपित को बुधवार को कर लिया गिरफ्तार