सरकार 2019 तक उत्तराखंड में करीब 50,000 करोड़ रुपये की 70 सड़कों का निर्माण करेगी

केंद्रीय परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने अगले दो वर्षों में उत्तराखंड के लिए कई परियोजनाओं की घोषणा की है. जिसके तहत सरकार 2019 तक उत्तराखंड में करीब 50,000 करोड़ रुपये की 70 सड़कों का निर्माण करेगी. गडकरी रोड़ प्रोजेक्ट्स हो या गंगा नमामि प्रोजेक्ट्स या फिर कोई और राष्ट्रीय राजमार्ग प्रोजेक्ट्स, पर अपनी गति को तेज कर दी है. घोषणा करते हुए गडकरी ने सभी मौसम में चलने वाली सड़क पक्की सड़कों परियोजनाओं, नमामि गंगे कार्यक्रम और अन्य राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं की प्रगति की भी समीक्षा की. उन्होंने कहा कि 2019 तक राज्य में भारतमाला योजाना के अंतर्गत मंजूर पांच परियोजनाएं और चारधाम पक्की सड़क परियोजना सहित कई सड़कों का निर्माण किया जाएगा, जिसकी कुल लागत 50,000 करोड़ रुपये है.

गडकरी ने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि भारतमाला परियोजना के अंतर्गत 9,700 करोड़ रुपये से बनने वाली पांच बार्डर सड़क परियोजनाओं को मंजूरी दे दी गई है और राष्ट्रीय राजमार्ग एवं अवसंरचना विकास निगम लिमिटेड एनएचआईबीसीएल को इन सड़कों का निर्माण कार्य छह महीने में खत्म करने को कहा गया है. आपको बता दें कि 2019 में लोकसभा चुनाव भी हैं. मौजूदा सरकार पर काफी दबाव भी बना हुआ है जिसका असर हम आए दिन देखते भी रहते हैं. मोदी सरकार पर काम ना करने के आरोपों पर विपक्षी दलों से घिरी रहती है. हाल ही में गडकरी ने कश्मीर घाटी तथा लद्दाख के बीच हर मौसम में संपर्क सुविधा उपलब्ध कराने के लिए 6,809 करोड़ रुपये लागत की परियोजना थी. इस परियोजना के पूरा होने पर श्रीनगर और लेह के बीच यात्रा में लगने वाला समय घटकर 15 मिनट रह जाएगा जो फिलहाल 3.5 घंटा है. 

Videos
उत्तराखंड
post-image
उत्तराखंड

खुफिया विभाग की टीम ने कलियर दरगाह क्षेत्र से एक अफगानिस्तानी नागरिक को किया गिरफ्तार

खुफिया विभाग की टीम ने कलियर दरगाह क्षेत्र से एक अफगानिस्तानी नागरिक को किया गिरफ्तार
post-image
उत्तराखंड

ऋषिकेश-बदरीनाथ हाईवे हुआ सड़क हादसा, दर्शन को जा रहे थे परिवार के 19 लोग, 2 की मौत और 17 लोग घायल

ऋषिकेश-बदरीनाथ हाईवे हुआ सड़क हादसा, दर्शन को जा रहे थे परिवार के 19 लोग, 2 की मौत और 17 लोग घायल
post-image
उत्तराखंड

शहीद राकेश का शव पहुंचा देहरादून, अंतिम यात्रा में उमड़ा इतना सैलाब कि पैर रखने की जगह नहीं बची

शहीद राकेश का शव पहुंचा देहरादून, अंतिम यात्रा में उमड़ा इतना सैलाब कि पैर रखने की जगह नहीं बची