मनाली में शिवरात्रि की धूम, अंजनी महादेव में बना 30 फीट शिवलिंग

पूरे देश में जंहा आज शिवरात्रि का त्यौहार धूम धाम से मनाया जा रहा हैं. वही पर्यटन नगरी मनाली में भी इस पर्व को लेकर शिव भक्तों में काफी उत्साह देखा गया. मनाली में बर्फबारी से जहां घाटी में काफी ठंड हो गई है. 

वहीं, सियाली महादेव मन्दिर में सुबह चार बजे से माइन्स तापमान में शिव के दर्शनों के लिए भक्तों का आना शुरू हो गया था. शिव भक्त कतार में खड़े होकर दर्शन का इतंजार करते देखे गए. वहीं मिनी अमरनाथ अंजनी महादेव में दो फीट बर्फ के बीच में भक्त शिव के दर्शन के लिए सोलंगनाला में पंहुच रहे हैं. अंजनी महादेव में प्राकतिक रूप से हर साल 25 से 30 फीट का शिवलिंग बनता है. मंदिर के पुजारी ने कहा कि माइन्स तापमान में भी भक्तों का मन्दिर में आने का सिलसिला जारी है. 

अंजनी महादेव में तीस फुट का शिवलिंग
मनाली से 25 किलमीटर दूर सोलंगनाल के पास अंजनि महादेव में इन दिनों भक्तों और सैलानियों का तांता लगा हुआ है. इसे ‘मिनी अमरनाथ’ भी कहा जाए तो अतिश्योक्ति नहीं होगा. सोलंग नाला से करीब 2 किलोमीटर की दूरी पर अंजनी महादेव में हर साल प्राकृतिक तौर पर शिवलिंग बनता है. 

बर्फ का शिवलिंग हर साल अपना आकार बदलता है
इसकी उंचाई हर साल बढ़ती और घटती रहती है. इस बार अंजनी महादेव में करीब 25 फीट ऊंचा शिवलिंग बना हुआ है और इसे देखने के लिए पर्यटक यंहा पर पंहुच रहे हैं. कहा जाता है कि यहां पर माता अंजनी ने पुत्र प्राप्ति के लिए तपस्या की थी. उनकी तपस्या से खुश होकर भगवान शिव प्रकट हुए थे. तभी से लेकर यंहा पर यह बर्फ का शिवलिंग बनता और हर साल अपना आकार बदलता है.

Videos
हिमाचल प्रदेश
post-image
हिमाचल प्रदेश

एक बार फिर झलका शहीद कैप्टन सौरभ कालिया के परिजनों का दर्द ... ,कहा- वार्ता से नहीं सबक सिखाने से सुधरेगा पाक ...

एक बार फिर झलका शहीद कैप्टन सौरभ कालिया के परिजनों का दर्द ... ,कहा- वार्ता से नहीं सबक सिखाने से सुधरेगा पाक ...
post-image
हिमाचल प्रदेश

प्रदेश हाईकोर्ट ने बसपा नेता केदार सिंह जिंदान की हत्या से जुड़े मामले में सरकार को नोटिस जारी कर दिए

प्रदेश हाईकोर्ट ने बसपा नेता केदार सिंह जिंदान की हत्या से जुड़े मामले में सरकार को नोटिस जारी कर दिए
post-image
हिमाचल प्रदेश

‘इससे फर्क नहीं पड़ता, आदमी कहां बैठा है, पथ पर या रथ पर, तीर पर या प्राचीर पर:अटल बिहारी वाजपेयी

‘इससे फर्क नहीं पड़ता, आदमी कहां बैठा है, पथ पर या रथ पर, तीर पर या प्राचीर पर:अटल बिहारी वाजपेयी