मंडी में बना लोकसभा चुनाव का रोडमैप

विधानसभा चुनाव में करारी हार के बाद प्रदेश कांग्रेस अब लोकसभा चुनावों की तैयारी में जुट गई है। चुनावों से पहले प्रदेश में भाजपा और उसके सांसदों को घेरने का रोडमैप कांग्रेस ने मंडी में तैयार कर लिया है। शनिवार को मंडी में कांग्रेस के अधिवेशन का आयोजन किया गया, जिसमें वीरभद्र सिंह और अन्य कुछ नेताओं को छोड़कर पार्टी के सभी नेता, जिला व ब्लॉक पदाधिकारियों सहित 400 डेलिगेट ने शिरकत की। अधिवेशन में प्रदेश सह-प्रभारी रंजीत रंजन ने कांग्रेसजनों को भविष्य की रणनीति से अवगत करवाया। अधिवेशन के बारे में पत्रकार वार्ता के दौरान मुख्य प्रवक्ता नरेश चौहान ने बताया कि अधिवेशन में हारी गई सीटों पर चर्चा हुई है। अधिवेशन में पांच प्रस्ताव पारित किए गए, जिनके माध्यम से केंद्र की मोदी सरकार को घेरने की कोशिश की गई। 

मोदी सरकार के चार साल होने पर कांग्रेस पार्टी प्रदेश के चारों सांसदों से हिसाब मांग रही है, लेकिन वे जवाब देने से डर रहे हैं। अधिवेशन में महंगाई को लेकर भी प्रस्ताव पारित किया गया, वहीं पर नरेंद्र मोदी के झूठे वादों को लेकर भी कांग्रेस ने सवाल किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का कहना है कि न तो विदेशों से कालाधन आया और न ही हर व्यक्ति के खाते में 15-15 लाख रुपए आए। भ्रष्टाचार खत्म होने के बजाय बढ़ा है। दूसरे प्रस्ताव में सेब पर आयात बढ़ाने और विशेष उत्पाद की श्रेणी में न आने की बात की गई। इसके अलावा मोदी सरकार ने चार साल के कार्यकाल में हिमाचल को एक भी सौगात नहीं दी। उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था पर भी सरकार को घेरा जाएगा। जयराम सरकार पर बाहरी लोगों को काबिज करने के लिए धारा 118 में संशोधन करने की तैयारी में है, जबकि कांग्रेस इसका विरोध करती है। इन सब मुद्दों को लेकर कांग्रेस के लोग अब जनता के बीच जाएंगे।

Videos
post-image

पूर्व मंत्री लंगाह को दुष्‍कर्म मामले में राहत, महिला बयान से पलटी, कहा-वीडियो में मैं नहीं

पूर्व मंत्री लंगाह को दुष्‍कर्म मामले में राहत, महिला बयान से पलटी, कहा-वीडियो में मैं नहीं
post-image

विनोद खन्ना के निधन से खाली हुई गुरदासपुर सीट के लिए मतदान, बीजेपी-कांग्रेस का है लिटमस टेस्ट

विनोद खन्ना के निधन से खाली हुई गुरदासपुर सीट के लिए मतदान, बीजेपी-कांग्रेस का है लिटमस टेस्ट