अभी भी सच छिपा रहा है चीन, खामियाज़ा पूरी दुनिया भुगतेगी

0
1309

तीन चीनी पत्रकार लापता

23-मार्च-2020 New Delhi
चायनीज़ वाइरस के चलते पूरे विश्व में हालात ख़राब हैं चीन के बाद इटली, ईरान और अमेरिका इस वाइरस के नए शिकार हैं . इटली में तो मृतकों की संख्या चीन से भी ज़्यादा हो गयी है . अमेरिका में एक दिन में 5000 नए केस आ रहे हैं। लेकिन दूसरी और जहां से यह वाइरस शुरू हुआ अर्थात् चीन में संक्रमण के मामले लगातार गिरते जा रहे है. यहाँ तक क़ि चीन तो यह दावा कर रहा है कि उसके यहाँ से वाइरस का ख़तरा टल चुका है।

यह सर्वज्ञ है कि चीन कि अंदर क्या चल रहा है उसका बाहरी दुनिया को कभी पता नहीं चलता . ऐसे में चीन के दावों पर कितना विश्वास किया जाए इस पर प्रश्न चिन्ह लगा ही रहेगा. लेकिन चीन से छन-छन \ कर बाहर आने वाली खबरों की माने तो वहाँ अभी तक चायनीज़ वाइरस का ख़तरा बना हुआ है।

सच का गला घोट रहा है चीन

वुहान में चायनीज़ वाइरस फ़ैलने के साथ ही चीन ने मामले पर पैनी नज़र रखनी शुरू कर दी थी. वुहान के डाक्टर ली जिनलियांग ने सबसे पहले इस चीनी वाइरस की ख़बर पब्लिक की. उसने अपने दोस्तों को बताया कि एक नये बुखार और वायरस के केस सामने आ रहे हैं। परिणाम पहले ली को गिरफ़्तार किया गया और उसके बाद उसकी मौत हो गयी. कहा गया डाक्टर खुद चीनी वाइरस का शिकार हो गया लेकिन सच आज तक सामने नहीं आ पाया है .

चीन से आ रहे है दो ‘चायनीज़ वाइरस’ के दो वर्ज़न

इस वाइरस के संक्रमण के फैलने के साथ ही चीन से दो तरह के वर्ज़न आ रहे है . एक वहाँ के सरकारी मीडिया की तरफ़ से जिसने बताया जा रहा है कि चीन बदी आसानी से हालातों से निबट रहा है. इस वाइरस से संक्रमित मरीज़ हस्पतालो में ख़ुशी से समय बिता रहे है . कुछ मरीज़ तो नाच हंस भी रहे है . जबकि वुहान के लोगों द्वारा अपलोड किए गए वीडियो कुछ और ही दास्ताँ बयान कर रहे है . जिसने चीनी पुलिस आम जनता के साथ बहुत बुरा व्यवहार कर रही है।

तीन चीनी पत्रकार लापता

चीन में क़िस हद तक खबरें छुपायी जा रही है इस बात का अनुमान आप इस बात से लगा सकते है क़ि वुहान में चायनीज़ वाइरस के बारे में रिपोर्टिंग करते हुए तीन पत्रकारों को हिरासत में लिया गया और अब कहा जा रहा है कि तीनो पत्रकार ग़ायब हो गए है . कहाँ है कोई नहीं जानता . इन तीनो में से एक पत्रकार ने तो अपने अरेस्ट का वीडियो ही शूट कर लिया जो बाद में इंटरनेट पर भी आ गया . अब तक इस वीडियो को लाखो लोगों ने देखा है।

दुनिया को ख़तरे में डाल कर चीन लगा है परसेप्शन मैनेजमेंट में

चीन इसे पूरी तरह से इसे परसेप्शन की लड़ायी मान रहा है और कहा जा रहा है कि चीन एक पुस्तक छाप रहा ह , सिर्फ छाप ही नहीं रहा है बल्कि पाँच भाषाओं में उसका अनुवाद भी कर रहा है जिसने वो पूरी तरह से बताएँगे कैसे उन्होंने चायनीज़ वाइरस पर विजय हासिल की . यहाँ यह बात ज़रूर ध्यान में रखनी चाहिए कि यदि चीन के आधिकारिक आंकड़ों की भी मानी जाए तो लगभग अस्सी हज़ार संक्रमित लोग अभी भी अस्पतालो में है, लेकिन चीन अभी भी सूचना मैनेजमेंट की बाज़ीगरी में लगा है .

आज जब चीन दवा कर रहा है की सब ठीक हो रहा है , काम काज सामान्य चलने लगा है, तब चीन के व्हिस्लब्लोवर और लोकल अफसर इस दावे को झूठा बता रहे हैं.

बताया जा रहा है की स्थिति को सामान्य बताने की लिए बीजिंग ने सभी ज़िलों को काम काज सामान्य तरीके से चलाने के लिए दबाव डाला जा रहा है था. कुछ ज़िलों में बिजली की कीमत कम कर दी गयी और एक न्यूनतम उत्पाद का कोटा भी तय कर दिया गया, जिसे सभी को मानना था. ज़ेजिआंग इलाके ने, जो वुहान (कोरोना वायरस का केंद्र) से पूर्व दिशा में है, 24 फरवरी से ही 98 .6 % तक सामान्य उत्पादन का दावा किया था. परन्तु कुछ सरकारी कर्मचारियों की अनुसार ये संस्थाएँ झूठे आंकड़े बता रही हैं. बीजिंग ने ज़ेजिआंग में बिजली की खपत को चेक करना शुरू कर दिया, सो जिला अधिकारियों ने कंपनीज़ से ऑफिसेस की लाइट्स और मशीन ऑन छोड़ देने की लिए कहा, जिससे सबकुछ सामान्य होने की आभास हो!! यहाँ तक कि कंपनीज़ ने कर्मचारियों की उपस्थिति भी झूठी रजिस्टर करा रहे हैं क्योंकि वे अधिकारियों को नाराज़ नहीं करना चाहते।

वुहान में हालाँकि यह दिखने की कोशिश की गयी की सब कुछ सामान्य हो गया है, लेकिन जब कुछ लीडर्स रिहायशी इलाकों में पड़ताल की लिए पहुँचे तो वहाँ के लोगों ने चिल्ला चिल्लाकर उनका विरोध किया और बताया की किस तरह वे अभी तक क्वारन्टेड हैं. जब वाइस प्रीमियर सुन चुलान, अन्य सरकार अफसरों के साथ वुहान के एक इलाके में गयी तब भी घरों में बंद लोगों ने ऐसा ही किया, इस घटना का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है. शहर की सभी रास्ते जनवरी से बंद हैं और अधिकतर लोगों को घरों से बाहर निकलने की इजाज़त नहीं है। जाहिर है चीन अभी झूठ बोलने में जुटा है और जिसका खामियाज़ा पूरी दुनिया को भुगतना होगा। जिसकी शुरुआत हो चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here