अवतार डोगरा ने फिर बढ़ाया हमीरपुर का मान,बने ह्यूमन राइट आयोग के सदस्य।

0
362

सबसे पहले अवतार डोगरा के जीवन की कहानी उन्ही की जुबान ।।।।। साल 1977 में पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ से एलएलबी(LLB) की ,उसके बाद मैंने 2 साल से ज्यादा समय के लिए पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट में वकालत की फिर मैं जनवरी 1980 से जिला हमीरपुर में वकालत शुरू की। मैं जिला बार एसोसिएशन हमीरपुर का दो बार प्रधान चुना गया और कई बार जिला बार की एग्जीक्यूटिव कमेटी का सदस्य रहा। फिर जून 1 2000 को मैंने अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश का पद धर्मशाला अदालत में ज्वाइन किया। उसके बाद में अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश शिमला में भी रहा मैं 2003 से 2005 तक जिला सत्र न्यायधीश पुणे में तैनात रहा। फिर उसके बाद मैं 2005 से जून 2008 तक जिला व सत्र न्यायाधीश मंडी में रहा ।उसके उपरांत में बतौर सेक्रेटरीsecretary Law हिमाचल सरकार में जुलाई 2008 से लेकर 2012 तक तैनात रहा. मैंने अपनी नौकरी के आखिरी 3 महीने भतार जिला व सत्र न्यायाधीश शिमला मैं तैनात रहा और वहां से ही सेवानिवृत्त हुआ उसके बाद में दिल्ली में चेयरमैन सेंट्रल गवर्नमेंट industrial Tribunal kam labour Court mein 2000 September 2019 तक पोस्टेड रहा।

अब हिमाचल सरकार ने उन्हें ह्यूमन राइट कॉमिश में बतौर मेंमबर नियुक्ति दी है जिस को लेकर अवतार डोगरा का कहना है ये बाद खुशी की बात है और हमेशा ही ईमानदारी से अपने कर्तव्य का निर्वाह किया है जो आगे भी करता रहूंगा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here