कांग्रेस का हैरान कर देने बाला आंकड़ा,युवा कांग्रेस चुनाबी अभियान पर सवाल।फिर याद आई 10 साल पुरानी लड़ाई।

0
561

वोट पड़े 1050000और युथ कांग्रेस की मेमेबेरशिप हुआ 12500000 पार।

नवनीत बत्ता,ब्यूरो।

युवा कांग्रेस के चुनाब होने ही नही चाहिये और अगर होते हैं तो ऐसी मेमेबेरशिप का कोई मतलव ही नही ,ये बात युवा कांग्रेस से जुड़े पार्टी के कर्तकर्ता इन दिनों कहते नज़र आ रहे हैं ।

प्रदेश में पिछले लोकसभा चुनाब में पार्टी सिर्फ 1050000 मतों पर सिमट गई लेकिन अब ऐसा कौन सा बूम पार्टी में आ गया है कि पार्टी में युथ कांग्रेस के ही मतों की संख्या पूरी पार्टी के मतों से अधिक हो गई ।

आंकड़ा हैरान कर देने देने बाला इस लिए है क्यूंकि पिछले लोकसभा चुनाबों में कांग्रेस के सभी संगठन जिस मैं महिला ,युवा,किसान सभी को मिला कर भी कांग्रेस को सिर्फ 10 लाख 50 हज़ार ही वोट पड़े थे ।लेकिन उत्साह इस बार आम चुनाबी से भी अधिक था ।

शिमला ,काँगड़ा, मंडी और हमीरपुर के लोकसभा चुनाबों में पार्टी के दिग्गज जैसे राम लाल ठाकुर,पवन काजल,आश्रय शर्मा जैसे चेहरे खड़े थे लेकिन नतीजा इतना हैरान कर देने वाला था कि पार्टी की हार का इतिहास प्रदेश में बन गया इतना ही नही उप चुनाब जब हुआ तो धर्मशाला से तो जमानत भी जब्त हो गई लेकिन इस बार धर्मशाला में भी उपचुनाब के उम्मीदवार से ज्यादा युवा कांग्रेस की मेमेबेरशिप यहां हो चुकी है ।

ये चुनाबी तैयारी है और अगर इतनी बड़ी है तो हजप।के लिए कांग्रेस नही बल्कि युथ कांग्रेस बड़ी चुनोती के रूप में अब कांग्रेस से भी बड़े संगठन के रूप में दिखने लगा है मतलव ये अध्यक्ष कांग्रेस से भी बड़ा हो सकता है ।

लेकिन कितना सही है ये सब ये बडा सवाल है क्यूंकि सदस्यता अभियान में अब बहुत से सवाल खड़े हुए हैं । एक एक्टिव मेंबर के साथ 4 और मेंबर मतलव 5 का ग्रुप टोटल बनता है इसी तरह करीब 280000 एक्टिव मेंमबर शिप यहां सदस्यों की स ख्या 13 लाख के।करीब दर्शा रही है जो कांग्रेस के लिए चिंता की बात है । इतिहासिक मेंमबर शिप हुई है प्रदेश में जो कि इसको खुद ही चौनोति देता नज़र आ रहा है।। वोटर कार्ड,आधार कार्ड,पहचान पत्र, स्टूडेंट identity कार्ड, दूसरे राजनीतिक दलों से युवाओं के।पहचान पत्र,सब कुछ पार्टी के बड़े नेताओं की आड़ मैं। किया गया ।। कहा ये भी गया कि ये सिर्फ पैसा इकट्ठा करने का लरटी का एक फार्मूला है । कहा ये भी जा रहा कि पार्टी के गिरते ग्राफ का कारण भी ऐसी फर्जी सदस्यता अभियान ही है । बड़े नेता कहते हैं कि लरटी मैं अब माहौल शुरू से ही खराब करने का कारण ऐसे चुनाबी है ।

वहीं कांग्रेस के बड़े नेता इसे सिर्फ 2 गुट में चल रही लड़ाई को कारण मानते है और एहि फर्जी सदस्यता अभियान का कारण भी है ।

हालांकि प्रभारी कहते हैं कि ये मोदी सरकार के खिलाफ लहर बजी हो सकती है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here