कॅरोना मरीजो को लेकर सरकार बदले अपनी सौच,कॉउंसलिंग के बिना बढ़ने लगी परिजनों की घर में मुश्किले । सुक्खू।

0
180

कोरोना मरीजों के प्रति ठीक नहीं सरकार की सोच : सुक्खू
-कोविड अस्पतालों में मरीजों को नहीं मिल रहा उचित उपचार
-अन्य बीमारियों के मरीजों की अस्पतालों में की जा रही अनदेखी
शिमला।किरण
हिमाचल प्रदेश में कोरोना पीड़ित महिला के आत्महत्या करने पर अनेक सवाल उठ रहे हैं। विपक्ष ने सरकार की घेराबंदी शुरू कर दी है। पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व कांग्रेस विधायक सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने सरकार की कार्यप्रणाली पर अनेक प्रश्नचिन्ह लगाए हैं।
उन्होंने कहा कि कोरोना मरीजों को लेकर सरकार की सोच ठीक नहीं है। इसी का नतीजा है कि संक्रमित उचित इलाज न मिलने पर आत्महत्या करने को मजबूर हो रहे हैं। कोविड-19 अस्पतालों में मरीजों को उचित उपचार नहीं मिल रहा। इससे वे हताश हो रहे हैं। प्रदेश सरकार ने जनता को उसी के हाल पर छोड़ दिया है। कोरोना की रोकथाम के लिए कोई उचित कदम नहीं उठाए जा रहे।
सुक्खू ने सुझाव दिया कि अस्पतालों में दाखिल संक्रमितों की काउंसलिंग भी कराई जानी चाहिए ताकि वे अवसादग्रस्त न हों। कोरोना मानसिक रूप से भी मरीजों को कमजोर रहा है। दिन-ब-दिन प्रदेश में मामले बढ़ते जा रहे हैं, इसलिए सरकार को ज्यादा एहतियात बरतने की जरूरत है। लेकिन, सरकार ने लोगों को भगवान भरोसे छोड़ दिया है। संक्रमण से मौतों का सिलसिला लगातार बढ़ रहा है, इसलिए स्वास्थ्य विभाग अपनी रणनीति की समीक्षा करे।
उन्होंने कहा कि अस्पतालों में मरीजों को दाखिल करने के लिए भी काफी माथापच्ची चल रही है। हमीरपुर के मरीजों को नेरचौक मंडी भेजने पर एतराज जताया जा रहा है।
उन्होंने जयराम सरकार से मांग की है कि सरकार कोरोना मरीजों को उचित उपचार मुहैया कराने के साथ ही उनकी उचित देखभाल का प्रबंध करे। अन्य बीमारियों के मरीजों का भी अस्पतालों में उपचार किया जाए। अस्पताल अन्य मरीजों को नहीं देख रहे, जिससे लोगों को भारी परेशानी हो रही है। उन्हें निजी अस्पतालों में मोटी राशि खर्च कर इलाज करवाना पड़ रहा है। यह जनता के साथ सरासर अन्याय है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here