बाहरी राज्यों से लौटे अपनों की मदद करना सभी का दायित्व : DC

0
152

संस्थागत संगरोध स्थलों में बढ़ाई जा रही क्षमता,

कोविड-19 संक्रमित व्यक्तियों के उपचार में एसओपी का किया जा रहा अनुपालनः उपायुक्त,

बाहरी राज्यों से लौटे अपनों की मदद करना सभी का दायित्व

हमीरपुर, 22 मई (Navneet Batta) उपायुक्त श्री हरिकेश मीणा ने कहा कि रेड जोन से हमीरपुर जिला में आने वाले लोगों को संस्थागत संगरोध केंद्रों में रखने के लिए समुचित प्रबंध किए गए हैं और प्राथमिकता के आधार पर इनके नमूने इत्यादि जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। यह सभी हमारे अपने हैं और इनकी मदद करना सभी का दायित्व है।

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के ठाणे तथा गुजरात के अहमदाबाद से रेलगाड़ियों में हमीरपुर जिला के लोग वापस आ रहे हैं। इसके दृष्टिगत यहां सभी आवश्यक तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। जिला में संस्थागत संगरोध स्थलों की क्षमता को बढ़ाया जा रहा है। राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, हमीरपुर के हॉस्टल को भी संस्थागत संगरोध स्थल के लिए चिह्नित किया गया है। यहां पर लगभग 180 बिस्तर क्षमता तैयार कर ली गई है। लोगों को अलग-अलग कमरों में रखने के लिए सभी आवश्यक प्रबंध किए गए हैं। यहां सेवाएं देने वाले कर्मचारियों व अन्य स्टाफ को समुचित प्रशिक्षण दिया गया है।

उन्होंने कहा कि जिला में हाल ही में कनार्टक से 89 तथा चेन्नई से 18 लोग पहुंचे हैं। संस्थागत संगरोध के दौरान इनके नमूने इत्यादि लेने के बाद रिपोर्ट नेगेटिव आने पर इन्हें गृह संगरोध के लिए भेज दिया गया है। इसी प्रकार ग्रीन जोन गोआ से आए 72 लोग कड़े गृह संगरोध में रखे गए हैं। मुंबई से आए 167 तथा पुणे से लौटे 68 लोगों के नमूने भी जांच के लिए भेजे गए थे। इनमें से जो व्यक्ति संक्रमित पाए गए हैं, उन्हें सेकंडरी तथा प्राइमरी आइसोलेशन सुविधा स्थलों में उपचार के लिए भेजा गया है।

उन्होंने कहा कि कोविड-19 संक्रमित व्यक्तियों के उपचार में सभी मानक संचालन प्रक्रियाओं (एसओपी) की अनुपालना की जा रही है। सेकंडरी आइसोलेशन सुविधा स्थल आरसीएच भोटा तथा जिला कोविड केयर सेंटर, डुग्घा में सभी तरह की सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए स्वास्थ्य विभाग के साथ मिलकर कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जो 31 लोग हाल ही में संक्रमित पाए गए हैं, उनमें से अधिकांश की बाहरी राज्यों से ट्रेवल हिस्ट्री रही है। संक्रमित व्यक्तियों के उपचार के लिए स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सक व सहायक स्टाफ दिन-रात कार्य कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि आशा कार्यकर्ताओं, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, शिक्षकों, पंचायत प्रतिनिधियों सहित स्थानीय प्रशासन व सभी विभागों के अधिकारी व कर्मचारी तथा मीडिया का भी इस संक्रमण की रोकथाम तथा नियंत्रण में भरपूर सहयोग प्राप्त हो रहा है। उन्होंने आग्रह किया कि लोग बिल्कुल न घबराएं और सरकार तथा प्रशासन की ओर से जारी दिशा-निर्देशों की पालना करते हुए अपना सहयोग बनाए रखें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here