Tuesday , July 23 2024
Breaking News

सिख गुरु परंपराओं व उनकी स्मृतियों को संजोने के लिए पीपली में बनेगा भव्य स्मारक….

चंडीगढ़। सिख गुरु परंपराओं व उनकी स्मृतियों को संजोने की दिशा में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि जिला कुरुक्षेत्र में पीपली के नजदीक एक भव्य स्मारक बनाया जाएगा, जिसमें सभी सिख गुरुओं की हरियाणा में जो भी निशानियां व स्मृतियां हैं, उन्हें इस स्मारक में संरक्षित किया जाएगा, ताकि भावी पीढ़ी गुरुओं के जीवन में मानवता की सेवा का अमर संदेश की प्रेरणा ले सकें। यह संग्रहालय निश्चित ही एक पर्यटन का केन्द्र बनेगा। मुख्यमंत्री बीते कल जिला कुरुक्षेत्र में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में आयोजित कार्यक्रम में राज्य सरकार द्वारा गुरुओं की सेवा में किए गए कार्यों पर आधारित पुस्तक का विमोचन करने उपरांत उपस्थितजनों को संबोधित कर रहे थे। मनोहर लाल ने लेखक और प्रकाशक को इस पुस्तक का टाइटल बदलने की सलाह दी। उनके सुझाव पर अब इस पुस्तक का नाम “गुरुवाणी की सीख -सेवा और सेवक मनोहर लाल” होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सारे समाज को एक साथ लेकर आगे बढ़ें, जाति समाज से ऊपर उठकर मानव मात्र के कल्याण के लिए मिलकर कार्य करें, यही गुरुओं के प्रति सच्चा सेवा भाव होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस पुस्तक में पिछले साढ़े 9 सालों में सिख गुरुओं के इतिहास को संजोने के लिए किए गए अनेक कार्यों जैसे श्री गुरु नानक देव जी, श्री गुरु गोबिंद सिंह जी, श्री गुरु तेग बहादुर जी के प्रकाश पर्व व बाबा बंदा सिंह बहादुर जी से संबंधित जितने भी कार्यक्रम हुए हैं, उनका उल्लेख किया गया है। उन्होंने पुस्तक के लेखक डॉ प्रभलीन सिंह तथा पुस्तक के प्रकाशन हेतु सूचना, लोक संपर्क, भाषा एवं संस्कृति विभाग के महानिदेशक मनदीप सिंह बराड़ की सराहना की। यह पुस्तक अंग्रेजी, हिन्दी और पंजाबी तीनों भाषाओं में उपलब्ध है।

बाबा बंदा सिंह बहादुर की राजधानी लोहगढ़ में बन रहा है स्मारक

मुख्यमंत्री ने कहा कि सिख राज्य की स्थापना करने वाले बाबा बंदा सिंह बहादुर की राजधानी लोहगढ़, जिला यमुनानगर में देश और दुनिया के लिए बेहतरीन भव्य स्मारक बनाया जाएगा। इसके लिए लोहगढ़ ट्रस्ट को 20 एकड़ जमीन दे दी गई है। उन्होंने कहा कि जिला सोनीपत के बड़खालसा गांव के सिख युवक भाई कुशाल सिंह दहिया ने गुरु तेग बहादुर जी के शीश के स्थान पर अपने शीश का दान दिया, ताकि गुरु जी का शीश आनंदपुर साहिब पहुंच जाये, उनकी ये कुर्बानी हम सभी को याद रहेगी। उनकी इस शहादत के सम्मान में हमने बड़खालसा में एक स्मारक बनाया है।

गुरु घरों के प्रबंधन के लिए अलग से बनाई हरियाणा गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी

मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा में गुरु घरों के प्रबंधनों को लेकर भी लंबे वर्षों से विवाद चलता रहा और हमने सुप्रीम कोर्ट में मजबूत पैरवी करके हरियाणा के लिए अलग से गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी बनाई। यह राजनीतिक विषय नहीं था, लेकिन पंजाब की स्थिति को देखते हुए हरियाणा में गुरुद्वारों का प्रबंधन सही तरीके से हो सके, इसलिए अलग कमेटी बनाई गई। हमारा मानना है कि गुरु घरों से राजनीति अलग रहनी चाहिए। हरियाणा गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के चुनाव के लिए अलग से चुनाव आयोग बनाया गया है और यह उम्मीद है कि चुनाव कार्यक्रम जल्द जारी हो जाए, ताकि चुनी हुई कमेटी सही तरीके से गुरु घरों की संभाल कर सके।

गुरुओं के दिखाए हुए रास्तों पर चलकर समाज की भलाई के लिए करें कार्य

मुख्यमंत्री ने कहा कि गुरुओं की बाणी में कथाओं में शौर्य, बहादुरी और करूणा के भाव मिलते हैं। केवल इतिहास पढ़ने से कुछ नहीं होगा, बल्कि हम सभी को समाज की भलाई के लिए गुरुओं के दिखाए हुए रास्तों पर चलकर आगे बढ़ना है। धर्म, देश और समाज की रक्षा करना हमारा कर्तव्य है और साथ ही मानवता की सेवा भी हमारा कर्म है।

हरियाणा के 2.80 करोड़ लोग मेरा परिवार, उनके लिए करता हूं कार्य

मनोहर लाल ने कहा कि विपक्ष के नेता कहते हैं कि मनोहर लाल का अपना परिवार नहीं है, लेकिन मैं हरियाणा के 2 करोड़ 80 लाख लोगों को अपना परिवार मानता हूं और उनके कल्याण के लिए कार्य करता हूं। मुख्यमंत्री ने कहा कि गत दिवस ही उन्होंने गांव बनियानी में स्थित अपना पैतृक मकान समाज को दान कर दिया, ताकि वहां लाइब्रेरी बनाई जा सके। बच्चें अच्छी शिक्षा ग्रहण कर शिक्षा व अपनी योग्यता से मेरिट पर सरकारी नौकरी प्राप्त कर सकें।

संतों के विचारों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए बनाई संत-महापुरुष सम्मान एवं विचार प्रचार प्रसार योजना

मुख्यमंत्री ने कहा कि समाज में जितने भी महापुरुष हुए हैं, चाहे वह किसी भी जाति या संप्रदाय से हों, सभी का संदेश केवल मानवता की सेवा करना है। इसलिए हमने संत-महापुरुषों के विचारों व संदेश को जन- जन तक पहुंचाने के लिए संत-महापुरुष सम्मान एवं विचार प्रचार प्रसार योजना चलाई है, जिसके तहत सभी महापुरुषों की जयंतियां व स्मृति दिवस सरकारी स्तर पर मनाई जा रही हैं, ताकि युवा पीढ़ी इन महापुरुषों के जीवन से समाज सेवा की प्रेरणा ले सकें। उन्होंने कहा कि हम भी संतों-महापुरुषों के दिखाये रास्ते पर चलते हुए अंत्योदय की भावना से पंक्ति में खड़े अंतिम व्यक्ति को मुख्यधारा में लाने के लिए कार्य कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल की सोच समाज के अंतिम व्यक्ति की सेवा करना- संदीप सिंह

इस अवसर पर राज्य मंत्री सरदार संदीप सिंह ने कहा कि बीते कल सिखों के लिए बड़ा इतिहास जुड़ने जा रहा है। पिछले साढ़े 4 साल से अधिक समय से मुख्यमंत्री के साथ कार्य करने का अवसर मिला है और मुख्यमंत्री की सोच यही है कि किसी प्रकार समाज के अंतिम व्यक्ति की सेवा की जाए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रदेश में 3-सी यानि करप्शन, क्राइम और कास्ट बेस्ड पॉलिटिक्स को खत्म करने का काम किया है। इस अवसर पर सांसद संजय भाटिया, हरियाणा गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के जनरल सेक्रेटरी सरदार रमनीक सिंह मान ने भी संबोधित किया। पूर्व सांसद सरदार त्रिलोचन सिंह का स्वास्थ्य खराब होने के चलते उनके संदेश को डॉ प्रभलीन ने पढ़कर सुनाया। इनके अलावा, पुस्तक के लेखक डॉ प्रभलीन सिंह ने विस्तार से पुस्तक में उल्लेखित जानकारियों पर प्रकाश डाला। इस मौके पर हरियाणा गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान सरदार भूपेंद्र सिंह, कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो सोम नाथ सचदेवा, सरदार सुरेंद्र सिंह वैदवाला सहित बड़ी संख्या में गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

About News Desk

Check Also

आयुष विभाग ने की बड़ी पहल,हिमाचल में निशुल्क मिलेंगे अश्वगंधा के पौधे

आयुष विभाग ने पहली बार यह पहल की है हिमाचल प्रदेश सरकार लोगों को अश्वगंधा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *