Breaking News

अडाणी: यह कैसा जादू है मितवा ?

(कमलेश भारतीय)……

देश के बड़े उद्योगपति गौतम अडाणी की चर्चा जोरों पर है । अखबार रंगे पड़े हैं अडाणी से । इनके शेयर गिर रहे हैं और इनके साथ ही सरकार की साख भी लगातार गिरती जा रही है । हालांकि सरकार पल्ला झाड़ रही है लेकिन विपक्ष है कि दिन प्रतिदिन हमलावर होता जा रहा है । संसद की कार्यवाही सुचारू रूप से नहीं चल पा रही । राहुल गांधी पूछ रहे हैं कि आखिर 609वें नम्बर वाला उद्योगपति दो नम्बर तक कैसे पहुँचा ? यह कैसा जादू है मितवा ? मोदी पीएम बने तो अमीरी का जादू शुरू हुआ । ये आरोप हैं । दूसरी ओर से जवाब है कि विजय माल्या को किसने भागने दिया ? सवाल लौट कर आते है कि नीरद मोदी को किसने भागने दिया ? हर्षद मेहता कौन था ? कभी उसके नाम पर भी संसद गूंजी थी । ये सवाल जवाब इतना संकेत तो देते हैं कि अलग अलग समय कौन कौन उद्योगपति सरकार के करीब रहकर बड़े बड़े पैसे डकार गये । देश के बैंक चुपचाप देख रहे हैं । देशवासी हैरान परेशान हैं । क्या होगा ? बैंक दीवालिया तो न हो जायेंगे ? शेयर बाजार तो धड़ाम से नीचे आये हैं , कहीं बैंकों पर भी इसका असर देखने को मिले ?

राहुल गांधी सवाल कर रहे हैं कि प्रधानमंत्री , अडाणी कितनी बार आपके साथ विदेश दौरे पर गये ? कितनी बार ऐसा हुआ कि आपके दौरे के बाद अडाणी को ठेका मिला ? अडाणी ने बीस साल में कितना पैसा भाजपा को दिया ? नियम बदलकर अडाणी को छह हवाई अड्डे दिये गये । स्टेट बैंक अडाणी को एक अरब डॉलर का कर्ज क्यों दे देता है ? संसद में सत्ता पक्ष और विपक्ष एक दूसरे के नेता का विरोध और अपने नेता के भाषण पर मेज थपथपाते हैं । रविशंकर प्रसाद बचाव में इतना ही कहते हैं कि ये आरोप बेबुनियाद और शर्मनाक हैं !

अब स्वतंत्रता के बाद से ही उद्योगपतियों और सरकार में दबे छिपे संबंध रहे हैं । अब यह खेल खुलेआम हो गया । हिसार के उद्योगपति व स्टीलमैन कहे जाने वाले ओ पी जिंदल पहले राजनिति वालों को चंदा देते रहे और जब अति हो गयी तो खुद चुनाव मैदान मे उतर आये ! ओ पी जिंदल , इनके बेटे नवीन जिंदल और बाद में सावित्री जिंदल सभी राजनीति में सफल रहे । इनके ही बेटे सज्जन जिंदल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निकट हैं ।

आजकल सीधे सीधे सावित्री जिंदल और नवीन जिंदल राजनीति में सक्रिय नहीं हैं लेकिन राजनीतिक दलों की मदद अब भी कल रहे हैं । यह छोटा सा उदाहरण मात्र है । बहुत से उद्योगपति सरकार से जुड़कर फायदे ले रहे हैं । कोई इनमें से भी छोटी पायदान से बड़ी छलांग लगा सकता है ।राजनीति अब काफी खुलने लगी है । बहुत से भेद खुलने लगे हैं । आईटी से प्रचार भी अब आम बात है । एक नहीं अनेक जादू हो रहे हैं ! अडाणी के जादू के खुलने से काफी हंगामा हो रहा है ।
ये कैसा जादू है मितवा !

About vira

Check Also

आई.जी कॉलेज कैथल में कमर्शियल आर्ट विभाग में मनाया गया वर्ल्ड वाटर डे

आज इंदिरा गांधी (पी.जी) महिला महाविद्यालय ,कैथल में कमर्शियल आर्ट विभाग में ‘वर्ल्ड वाटर डे’ …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share