प्रदेश के सभी कस्तूरबा विद्यालयों की कराई जाएगी जांच

0
84
edu

प्रदेश सरकार के राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार बेसिक शिक्षा विभाग सतीश द्विवेदी ने कहा, प्रदेश के सभी कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालयों की स्थिति सुधारी जाएगी। प्रत्येक कस्तूरबा स्कूल की जांच कराई जाएगी। बालिकाओं के रहने, खाने और पढ़ाई की व्यवस्था का निरीक्षण होगा। परिषदीय विद्यालयों में शिक्षा का स्तर सुधारने के लिए सचल दल गठित किए जाएंगे। प्रेरणा एप के मुद्दे पर कहा, इस पर शिक्षकों को कोई नाराजगी नहीं होनी चाहिए। 
इस एप का आशय सिर्फ इतना है कि सरकार अपने विद्यालयों पर नजर रखेगी। पूरे प्रदेश में एक करोड़ 60 लाख बच्चे हैं। हम उनकी शिक्षा और सुविधा प्रेरणा एप पर देखना चाह रहे हैं। शिक्षकों को हर सुविधाएं मुहैया कराई जा रही है। हमने शिक्षकों को प्रेरणा एप पर महीने में तीन दिन लेटलतीफी में छूट है। महिला शिक्षकों को ग्रुप के बजाय अलग से फोटो भेजने की सहूलियत है। इसके अलावा अक्टूबर माह में ट्रांसफार्मर शिक्षकों का उनके मनमुताबिक स्थानांतरण करने जा रहे हैं। जिससे उन्हें आने जाने में सुविधा रहे। महिला शिक्षक एक साल और पुरुष तीन साल के अपना स्थानांतरण करा सकते हैं। 
बकाया भुगतान को शिक्षकों ने उठाई आवाज बेसिक शिक्षा मंत्री से उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक के जिलाध्यक्ष उदयशंकर शुक्ल की अगुवाई शिक्षकों के दल ने मुलाकात की। उन्हें पांच सूत्रीय ज्ञापन सौंपा गया। शिक्षकों के बकाया वेतन भुगतान, जीपीएफ, एनपीएस कटौती का पासबुक वितरित किए जाने, रिक्त पदों पर पदोन्नति एवं पारस्परिक लंबित स्थानांतरण आदेश किए जाने की आवाज उठाई गई। जिला उपाध्यक्ष शैल शुक्ल, संगठन मंत्री बब्बन पांडेय, विजय प्रकाश चौधरी, राम भरत वर्मा, अभिषेक उपाध्याय, विजय प्रताप वर्मा, उमाशंकर मणि त्रिपाठी, प्रवीण त्रिपाठी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here