ऑटोमेशन और अर्थव्यवस्था में मंदी

0
140
rojgar

ऑटोमेशन और अर्थव्यवस्था में मंदी से आज हर कोई संशय में है। जो नौकरी में है, वह आगे को लेकर चिंतित है और जो नौकरी तलाश रहा है, वह मनमाफिक नौकरी न मिल पाने के कारण हैरान-परेशान है। बेशक ये दोनों ही स्थितियां चिंताजनक हैं, लेकिन ऐसा नहीं है कि इनसे निबटा नहीं जा सकता इजराइल के हिब्रू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर युवाल नोआ हरारी अपनी विश्लेषणात्मक बेस्टसेलर किताबों के कारण दुनियाभर में चर्चित हैं। उनकी ‘21 लेसंस फॉर 21 सेंचुरी’, ‘सैपियंस’ और ‘होमो डायस’ जैसी किताबों की 2 करोड़ से अधिक प्रतियां बिक चुकी हैं। दुनिया के भविष्य को लेकर फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग और आइएमएफ के पूर्व प्रमुख क्रिस्टीन लेगार्ड तक उनके साक्षात्कार ले चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here