Breaking News

ऐलनाबाद के सरकारी अस्पताल में ऑपरेशन के एवज में रिश्वत लेने का पर्दाफाश

ऐलनाबाद 11 जून। ऐलनाबाद के सरकारी अस्पताल में ऑपरेशन करने के एवज में आठ-आठ हजार रूपए लिये जा रहे है। इस रिश्वतखोरी का पर्दाफाश आम आदमी पार्टी हरियाणा के जोन प्रवक्ता एवं विधानसभा के प्रत्याशी कृष्ण वर्मा ने पीडित को साथ ले जाकर अस्पताल के अंदर ही कर दिया। ऐसे दो मामले सामने आए हैं, जिसमें एक मामले में तो रोगी के परिजन से आठ हजार रूपए लेते हुए एक व्यक्ति कैमरे में कैद हुआ है।
गांव धौलपालिया के सुभाष कुमार ने बताया कि 24 मई 2022 उसकी विधवा चाची कैश्लया पत्नी स्व. सोहनलाल का बच्चादानी ऑपरेशन हुआ था, इसकी एवज में मेरे आठ हजार रूपए लिए गए। पीडित व्यक्ति सुभाष ने बताया कि बिमारी के कारण उसकी चाची काफी तंग हो रही थी लेकिन आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण उसका ईलाज नहीं हो रहा था। मै ऐलनाबाद के सरकार अस्पताल में उसका ईजाल करवाना के लिए लाया। जांच के नाम उसके कई चक्कर कटवाए गए, एक दिन वहां मौजूद एक व्यक्ति ने बताया कि जल्द ऑपरेशन करवाना है तो आप मुंशी राम मिल लो। मुंशीराम नामक व्यक्ति से मिला तो उसने कल ही ऑपरेशन करवाने की हां भरते हुए उसके एवज में आठ हजार रूपए की मांग की। सुभाष ने बताया कि वह उसके पास पैसे नहीं थे, लेकिन दूसरी उसकी चाची काफी परेशान थी। मैंने कई जनो से इक्कठे करके अगले दिन सुबह आठ बजे ही अस्पताल में पहुंचा। सुभाष ने बताया कि रिश्वतखोरी से परेशान होकर उसका विडियों बनाने के लिए अपना मोबाइल ऑन करके जेब रख लिया। मंशीराम उसको अस्पताल की चार दिवारी के अंदर की गाडी पर मिला और बोला वह ऑपरेशन के सामान लेने के लिए जा रहा है, उसको पैसे दो ताकी आज ही ऑपरेशन किया जाए। सुभाष ने बताया कि उसने कुछ कम करवाने की भी कोशिश की लेकिन मुंशीराम ने कम करने मना करते हुए कहा कि अगर बाहर से ऑपरेशन करवाए तो 30 हजार रूपए लगेंगे। मजबूरी में 8 हजार रूपए देने पडे। पीडित के साथ लेकर आम आदमी पार्टी हरियाणा के जोन प्रवक्ता एवं विधानसभा के प्रत्याशी कृष्ण वर्मा सरकारी अस्पताल में पहुंचे और एसएमओ हरप्रीत कौर को इसकी शिकायत की तो एक मामला और खुल गया। कृष्ण वर्मा ने आरोप लगाय कि ऐलनाबाद सरकारी इस प्रकार रिश्वत खेल की शिकायत लगातार मिल रही है। हम मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री मांग करेंगे कि इसकी जांच करवाकर दोषी लोगों के खिलाफ कार्रवाई करें। उन्होंने कहा कि आज हर विभाग में रिश्वत खेल चल रहा है जिसमें स्वास्थ्य विभाग भी अछूता नहीं है। दूसरी ओर सरकारी अस्पताल एसएमओ हरप्रीत कौर ने पत्रकरों को बताया कि विडियो में जो एक व्यक्ति सरकारी अस्पताल के अंदर गाडी में बैठकर पैसे ले रहा है, वह उनका कर्मचारी नहीं है। वह अपने आपको चिकित्सक चालक बता रहा है। यह जांच के बाद ही पता चलेगा कि उसने आठ हजार रूपये में किसके कहने पर लिए।
फोटो ऐलनाबाद के सरकारी अस्पताल में रिश्वत मामले में पत्रकारों से बातचीत करती हुई हरप्रीत कौर, पत्रकारों को रिश्वत वाला विडियों दिखाते हुए सुभाष

About khalid

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share