Breaking News

अग्निपथ योजना को तुरंत वापस ले सरकार, यह योजना राष्ट्रहित में नहीं – दीपेंद्र हुड्डा

सांसद दीपेन्द्र हुड्डा और पूर्व मंत्री कैप्टन अजय सिंह यादव के नेतृत्त्व में आज कांग्रेस पार्टी ने रेवाड़ी में शांतिपूर्ण सत्याग्रह कर ‘अग्निपथ योजना’ के विरोध में धरना-प्रदर्शन किया। इस दौरान दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि फ़ौज को कमजोर नहीं होने देंगे, देश को कमजोर नहीं होने देंगे। उन्होंने मांग करी कि सरकार अग्निपथ योजना को तुरंत वापस ले, यह योजना राष्ट्रहित में नहीं है। उन्होंने कहा कि रेवाड़ी की वीर भूमि से ‘वन रैंक, वन पेंशन’ का नारा लगाने वाली भाजपा ने चुनाव के समय जवानों के वोट बटोरे और फिर दिल्ली की सत्ता पर बैठते ही नौजवानों से विश्वासघात कर ‘नो रैंक, नो पेंशन’ योजना ले आयी। भाजपा सरकार युवाओं के भविष्य को चौपट और देश की सेना को कमजोर करने वाला कदम न उठाये। सरकार ने जैसे किसानों से माफ़ी मांगकर तीनों क़ानून वापस लिए वैसे ही युवाओं से माफ़ी मांगकर अग्निपथ योजना वापस ले। कांग्रेस देश की सेना को कमजोर और युवाओं के सपनों को चकनाचूर करने वाले हर कदम का सड़क से संसद तक पुरजोर विरोध करेगी।

सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि हरियाणा से बड़ी संख्या में परम्परागत रूप से फौज में भर्ती होती रही है। यहां के विभिन्न इलाकों में पीढ़ी दर पीढ़ी देश के लिये समर्पित होकर सर्वोच्च बलिदान देने की परम्परा रही है। सेना में देश की 2% आबादी वाले हरियाणा से 10% सैनिक देश सेवा में जाते हैं। हरियाणा के गाँव-गाँव में सैनिकों, पूर्व-सैनिकों, अर्ध-सैनिक बलों के जवान और उनके परिवार रहते हैं। लेकिन अग्निपथ योजना यहां के नौजवानों के लिए बड़े झटके की तरह है। अग्निपथ योजना के तहत ऑल इंडिया ऑल क्लास के दुष्प्रभावों के बारे में बताते हुए दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि वर्ष 2019-20 में हरियाणा से करीब 5000 युवाओं की सेना में पक्की भर्ती हुई थी। लेकिन इस योजना के बाद अब हरियाणा से होनी वाली करीब 5000 पक्की भर्ती घटकर सिर्फ 963 रह जायेगी, इसमें भी 4 साल बाद सिर्फ 240 अग्निवीरों को ही पक्का किया जायेगा और 722 अग्निवीरों को नौकरी से बाहर कर देगी सरकार। इस तरह ‘अग्निपथ’ योजना हरियाणा समेत पूरे देश के युवाओं पर दोहरी चोट करेगी।

उन्होंने कहा कि ‘अग्निपथ योजना’ लागू करने के निर्णय से देश भर के युवाओं में मायूसी और गहरा आक्रोश है। उन्होंने कहा कि हर साल 2 करोड़ रोजगार देने के वायदे में विफल रही भाजपा सरकार ने युवाओं का ध्यान भटकाने के लिये 10 लाख रोजगार और अग्निपथ योजना का शिगूफा छोड़ा है। इस योजना के अधार पर आने वाले समय में फौज का संख्याबल घटकर आधे से भी कम रह जायेगा। अभी तक हर साल फ़ौज में 60 से 80 हज़ार भर्तियाँ होती थीं, अब अग्निपथ योजना में हर साल 40-50 हज़ार भर्ती होगी, जिसमें से 75% अग्निवीरों को 4 साल बाद निकाल दिया जायेगा इस हिसाब से अगले 15 साल में हिन्दुस्तान की करीब 14 लाख की फ़ौज का संख्याबल घटकर आधे से भी कम रह जायेगा। फौज का संख्याबल घटेगा, तो बेरोजगारी भी बढ़ेगी।

दीपेन्द्र हुड्डा ने यह भी कहा कि केंद्र और राज्य सरकार के विभिन्न विभागों की नौकरियों में 62 लाख रिक्त पद हैं, जिसमें से अकेले केंद्र सरकार में 26 लाख पद खाली हैं। संसद में उनके सवाल के जवाब में सरकार ने बताया कि फौज में करीब 2 लाख से ज्यादा पद खाली पड़े हैं, तीन साल से भर्तियां बंद हैं। ऐसे में यह योजना लाकर सरकार ने रिकार्ड बेरोजगारी का सामना कर रहे नौजवानों के भविष्य के साथ भद्दा मजाक किया है। इसके अलावा सरकार 4 साल बाद सेना से निकाले गए अग्निवीरों को अलग-अलग मंत्रालयों, विभागों और प्राईवेट सेक्टर में प्राथमिकता देने का झांसा दे रही है। सरकार पहले ये बताए कि जो रिटायर्ड फौजी 15 साल की सर्विस के बाद वापिस आ रहे हैं उनमें से कितने रिटायर्ड फौजियों को सरकार ने नौकरी दी है। सच्चाई ये है कि विभिन्न सरकारी महकमों के स्वीकृत पदों को भी सरकार खत्म करती जा रही है और सभी जगहों पर ठेका प्रथा लागू कर रही है। ऐसे में 4 साल बाद अग्निवीरों को एडजस्ट करने का सरकारी दावा झूठ और ढकोसले के अलावा एक और धोखा है। इस अवसर पर पूर्व विधायक राव यादवेन्द्र सिंह, पूर्व विधायक एम.एल. रंगा, बावल नगर पालिका के नवनिर्वाचित प्रधान वीरेंद्र महलावत समेत बड़ी संख्या में वरिष्ठ कांग्रेस नेता, कार्यकर्त्ता मौजूद रहे।

About khalid

Check Also

राम मंदिर में आयोजित जन्माष्टमी कार्यक्रम में डॉ. सिकंदर कुमार ने लिया हिस्सा

शिमला, भाजपा के प्रदेश कोषाध्यक्ष एवं अध्यक्ष सूद सभा संजय सूद ने कहा कि सूद …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share