Breaking News

जलेबीबाई गाने से मशहूर गायिका से बातचीत

चार साल की थी जब पापा जे पी पाठक के आर्केस्ट्रा बैंड से जुड़ गयी थी और मंच पर गाने लगी थी । हमारा पूरा परिवार संगीत प्रेमी परिवार है । यह कहना है जलेबीबाई गाने से हिट हुई गायिका रीतू पाठक का ! वे कल शाम फ्लेमिंगो पर्यटन परिसर में शुरू हुए हिसार उत्सव के पहले दिन अपनी संगीतमय प्रस्तुति देने आई थीं । जय गणेश देवा से शुरू कर रीतू पाठक ने अपने हिट गीत ‘जलेबीबाई’ के साथ कार्यक्रम सफलतापूर्वक संपन्न किया । श्रोताओं की जबरदस्त मांग पर हरयाणवी गीत -तेरी आंख्यां का यो काजल’ भी गाया जिससे दर्शक खूब थिरकते झूमते दिखे ! बीच बीच में रीतू बच्चों के साथ सेल्फी भी करवाती रही और दर्शकों के बीच भी आती रही ! इनकी मम्मी सविता पाठक भी श्रोताओं में सबसे आगे मौजूद रहीं ।

मूल रूप से कहां की रहने वाली हैं आप ?
मध्यप्रदेश के गोपालगंज से ।

पढ़ाई लिखाई कितनी और कहां से ?
बीए प्रथम वर्ष तक ही और गोपालगंज से ही ।

संगीत और गायन की दुनिया में कैसे ?
चार साल की थी जब पापा जे पी पाठक के आर्केस्ट्रा बैंड के साथ जुड़कर मंच पर गाने लगी थी । मम्मी सविता ने भी स्पोर्ट किया ।

कोई डर नहीं लगा ?
डर के आगे जीत है !

मुम्बई कब गयीं ?
सन् 2007 में ! इंडियन आइडल के सीजन 2 में ।

क्या पोजीशन रही ?
टाॅप टेन में रही ।

रियल्टी शोज के बारे में क्या कहोगी ?
नयी प्रतिभाओं को मंच मिलता है और मेरे जैसे अनेक नये गायक इन्हीं मंचों से आये हैं लेकिन अब यह बिजनेस ज्यादा हो गया है !

मुम्बई में प्लेबैक सिंगर बनने का पहला मौका किसने दिया ?
संगीतकार आनंदराज ने । उनके साथ ही ‘डबल धमाल’ फिल्म में गाया मेरा गाना जलेबीबाई सुपरहिट रहा जो मेरी अब तक की सबसे बड़ी पहचान है !

फिर और गाने ?
शंकर अहसान राय और प्रीतम सहित अनेक संगीतकारों के साथ गाने गाये हैं ! हाउसफुल और थैंक्यू सहित अनेक फिल्मों में मेरे गाये गाने हैं । फिर भी जलेबीबाई मेरी पहचान है !

पसंदीदा गायक /गायिका ?
लता मंगेशकर और आशा भोंसले । सोनू निगम भी । वैसे सबको सुनती हूं ।

कोई अवाॅर्ड?
गोपालगंज से लेकर मुम्बई तक छोटे छोटे अनेक सम्मान लेकिन कोई बड़ा पुरस्कार अभी नहीं । जो गाने का अवसर मिल रहा है यह भी सम्मान से कम नहीं !

अब आगे क्या लक्ष्य ?
जीवन में प्लान बना कर कुछ नहीं करती । कोविड का समय भी आया तब भी निराश नहीं हुई ।

हरियाणवी गीत की फरमाइश पूरे कार्यक्रम के दौरान रही । फिर कैसे मैनेज किया ?
मैंने तेरी आंख्यां का यो काजल काफी सुन रखा था और एक हरियाणवी गीत गाया भी है । इसलिए इस गीत को गाकर फरमाइश पूरी कर अच्छा लगा । गायक और परफाॅर्मर को श्रोताओं की खुशी देखनी ही होती है । हिसार आकर बहुत अच्छा लगा । फिर कभी आमंत्रण मिला तो जरूर आऊंगी ।

कमलेश भारतीय

About ANV News

Check Also

चंडीगढ़ में मिला अजब ही मामलाः 6 माह में नहीं चुकाया 19 लाख रुपये का बिल,वेलेटाइन-डे पर ऐसे पैसा वसूल करेगा होटल

(चंडीगढ़)- पंजाब और हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़ में होटल बिल रिकवरी का अजब गजब मामला सामने …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share