Breaking News

गृह मंत्री अनिल विज का जनता दरबार नहीं लगने के बावजूद

चंडीगढ़, 20 मई – हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज का जनता दरबार बेशक कुछ दिनों से नहीं लग रहा, मगर उनके आवास पर प्रदेश के कोने-कोने से आने वाले फरियादियों की संख्या प्रतिदिन बढ़ रही है और हजारों लोग उनके आवास पर पहुंच रहे हैं। ऑन-स्पॉट फैसले लेने के लिए प्रसिद्ध गृह मंत्री अनिल विज से न्याय की आस लेकर शनिवार को भी भारी संख्या में फरियादी उनके आवास पर पहुंचे।

विज ने सभी लोगों की समस्याओं को सुना और संबंधित अधिकारियों को कार्रवाई के दिशा-निर्देश दिए।

वहीं, पत्रकारों से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि पहले वह जनता दरबार लगाते थे, अब मुख्यमंत्री जी ने सभी जिलों के डीसी व एसपी को जनता दरबार लगाने के लिए कहा है। मगर उनके आवास पर जनता की भीड़ बढ़ रही है और अब उनके लिए काफी मुश्किल हो गया है, उनके सारे कार्यक्रम इस कारण प्रभावित तक हो रहे हैं। उन्होंने लोगों से प्रार्थना करते हुए कहा कि जनता पहले अपने जिलों के डीसी व एसपी के पास जाए, अगर वहां उनकी कोई संतुष्टि न हो तो उनके दरवाजे खुले हुए हैं इसलिए जनता पहले अपने स्तर पर कोशिश करे।

इधर, आज गृह मंत्री अनिल विज ने अपने आवास पर प्रदेश के कोने-कोने से आए फरियादियों की शिकायतों को सुना और कार्रवाई के दिशा-निर्देश अधिकारियों को दिए। इस दौरान कई जिलों के पुलिस अधिकारियों को फोन कर कार्यवाही ने होने पर फटकार भी लगाई।

फरियादी से बोले गृह मंत्री विज “बदमाशों का ईलाज अनिल विज करता है”

अम्बाला छावनी के बंगाली मोहल्ले से आए फरियादी ने गृह मंत्री अनिल विज को फरियाद देते हुए कहा कि पड़ोसी ने अपना मकान तुड़वाया और साथ ही उसका भी तोड़ दिया। इस कारण उसे नुक्सान हुआ। उसका आरोप था कि पड़ोसी ने गुंडे भी बुलाए है जो उसे धमका रहे हैं। गृह मंत्री विज ने कहा कि “बदमाशों का ईलाज अनिल विज करता है और उन्हें किसी ने डरने की जरूरत नहीं है”। मंत्री विज ने एसपी को मामले में तुरंत कार्रवाई के निर्देश दिए।

कबूतरबाजी के कई मामले सामने आए, एसआईटी को सौंपी जांच

प्रदेश के कैथल, चरखी-दादरी, करनाल एवं अन्य जिलों से कबूतरबाजी के मामले गृह मंत्री अनिल विज के सामने आए जिनमें मंत्री विज ने मामलों को जांच के लिए आईजी अम्बाला रेंज की अध्यक्षता में गठित एसआईटी को जांच हेतु भेजा।

महिला की शिकायत पर महेशनगर एसएचओ को फटकार

अम्बाला निवासी विवाहिता महिला ने गृह मंत्री अनिल विज को शिकायत देते हुए कहा कि ससुराल पक्ष द्वारा उसके खिलाफ गलत केस दर्ज कराया है और महेशनगर थाना में महिला पुलिस अधिकारी ने उसे थप्पड़ भी मारा। इससे खफा हुए मंत्री अनिल विज ने तुरंत एसएचओ महेशनगर को फटकार लगाई और मामले में निष्पक्ष जांच के निर्देश दिए।

एसपी यमुनानगर से दस दिनों में मांगी रिपोर्ट

रादौर निवासी परिवार ने बेटी के साथ दहेज उत्पीड़न एवं उसकी हत्या के आरोप लगाए। परिवार ने आरोप लगाया कि केस दर्ज होने के बाद पुलिस ने मामले में कार्रवाई नहीं की। इस पर मंत्री विज ने एसपी यमुनानगर से मामले में दस दिनों के भीतर केस की रिपोर्ट तलब करने के निर्देश दिए।

छेड़छाड़ का फर्जी केस दर्ज होने की शिकायत, स्टेट क्राइम को जांच

भिवानी से आए परिवार के कई लोगों ने परिवार सदस्यों पर छेड़छाड़ का झूठा मुकद्दमा दर्ज होने की शिकायत की। परिवार ने आरोप लगाया कि पुलिस मामले में निष्पक्ष जांच नहीं कर रही है। इस पर अनिल विज ने मामले की जांच स्टेट क्राइम ब्यूरो को सौंपने के निर्देश दिए।

हत्या मामले में दो साल से केस दर्ज नहीं, मंत्री विज ने स्पष्टीकरण मांगा

सिरसा से आए व्यक्ति ने बेटे की हत्या के दो वर्ष बाद भी हत्या का केस नहीं दर्ज होने की शिकायत दी। गृह मंत्री अनिल विज ने मामले में एसपी सिरसा को फोन कर फटकार लगाई और अब तक केस दर्ज नहीं होने का कारण जाना। उन्होंने इस मामले की जांच कर रहे आईओ से स्पष्टीकरण मांगा और एसपी को कार्रवाई के निर्देश दिए।

विवाहिता से मारपीट, आईओ बदलने के निर्देश दिए मंत्री अनिल विज ने

फतेहाबाद निवासी परिवार ने विवाहिता से मारपीट के आरोप ससुराल पक्ष पर लगाए। उनका आरोप था कि पुलिस को शिकायत करने के बावजूद भी थाना पुलिस इस मामले में सही कार्रवाई नहीं कर रही है। गृह मंत्री अनिल विज ने इस मामले की जांच कर रहे आईओ को बदलने के निर्देश दिए।

इसके अलावा उनके समक्ष करनाल से व्यक्ति ने स्वयं पर हमले मामले में कार्रवाई नहीं होने, पंचकूला निवासी व्यक्ति ने खेत से रेत चोरी होने, पेहवा निवासी किसान ने उसके खेत से अन्य द्वारा फसल काटने सहित अन्य कई शिकायतें आई जिनपर मंत्री विज ने कार्रवाई के निर्देश दिए

About ANV News

Check Also

मानवता की मिसाल: तीन बच्चों की गुमशुदा “गर्भवती” मां को परिवार से मिलवाया

प्रदेश के सभी जिलों में स्थापित एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट्स बिछड़े लोगों को मिलाने का …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share