इलेक्टोरल बॉन्ड: RBI की चिट्ठी को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार को घेरा

0
151

इलेक्टोरल बॉन्ड से मिलने वाले चंदे को लेकर मोदी सरकार पर विपक्ष का हमला तेज हो गया है. कांग्रेस ने मांग की है बीजेपी इलेक्टोरल (चुनावी) बॉन्ड से मिले समूचे चंदे का खुलासा करे. कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि बीजेपी ने इस तरह से मिलने वाले चंदे के मामूली हिस्से की जानकारी ही चुनाव आयोग को दी है. गौरतलब है कि आरटीआई से यह खुलासा हुआ है कि रिजर्व बैंक ने इलेक्टोरल बॉन्ड जारी करने को लेकर मोदी सरकार को चेतावनी दी थी.मोदी सरकार द्वारा इलेक्टोरल बॉन्ड जारी करने के लिए बिल लाने से कुछ दिनों पहले ही रिजर्व बैंक ने एक लेटर भेजकर सरकार को इसके खिलाफ चेताया था. रिजर्व बैंक ने सरकार से कहा था कि इलेक्टोरल ट्रस्ट के द्वारा चंदा लेने के मौजूदा सिस्टम को बदलने की जरूरत नहीं है. आरटीआई से हासिल दस्तावेजों से यह खुलासा हुआ है कि रिजर्व बैंक ने यह चेतावनी दी थी कि इसके गंभीर नतीजे हो सकते हैं. रिजर्व बैंक ने कहा था कि इस तरह के साधन जारी करने वाले अथॉरिटी को प्रभाव में लिया जा सकता है. इसकी वजह से इसमें पारदर्श‍िता पूरी तरह से नहीं रखी जा सकती. यह मनी लॉन्ड्र‍िंग एक्ट को कमजोर करेगा. यह अंतरराष्ट्रीय चलन के भी खिलाफ है.लेकिन सरकार ने इन आपत्त‍ियों को खारिज कर दिया था और इस प्रस्ताव पर आगे बढ़ी थी. तत्कालीन राजस्व सचिव ने रिजर्व बैंक को लिखे जवाब में कहा था कि इस प्रीपेड साधन को भुनाने के लिए एक समय सीमा होगी और इसको राजनीतिक पार्टी के रजिस्टर्ड खाते में ही भुनाया जा सकता है, इस‍लिए इसका इस्तेमाल करेंसी की तरह नहीं हो सकता. कांग्रेस सांसद राजीव गौड़ा ने आरोप लगाया कि इस मामले में रिजर्व बैंक को जानकारी अंतिम समय में दी गई और ऐसा लगता है कि सरकार इतने महत्वपूर्ण मसले पर रिजर्व बैंक से मशविरा ही नहीं करना चाहती थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here