रेरा का पहला नेशनल कॉन्क्लेव हुआ आयोजित

0
196

लखनऊ में यूपी रेरा का पहला नेशनल कॉन्क्लेव आयोजित किया गया, जिसमें नोएडा-ग्रेटर नोएडा के भी खरीदार शामिल हुए। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उपस्थित रहे। इस दौरान नोएडा-ग्रेटर नोएडा के खरीदारों ने योगी आदित्यनाथ के समक्ष अपनी परेशानियां रखी और कहा कि बिल्डरों पर फंड डायवर्जन और अंकुश लगाएं नहीं तो खरीदार इस तरह ही परेशान होते रहेंगे।साथ ही ऐसी व्यवस्था की जाए जिससे खरीदारों को जल्द पजेशन मिले। ऐसा ना हो कि लोग जीवन भर की कमाई गंवा कर अपने आशियाने का केवल सपना ही देखते रह जाएं। मीटिंग में आम्रपाली के खरीदारों का मुद्दा भी उठाया गया। खरीदारों की संस्था नेफोवा और नेफोमा के सदस्य व अन्य खरीदार इस दौरान मौजूद रहे।इस दौरान नेफोवा के अध्यक्ष अभिषेक कुमार ने बिल्डरों पर अंकुश और आरबीआई की ओर से भी बिल्डरों पर अंकुश का सुझाव दिया। वहीं बायर्स की दूसरी संस्था नेफोमा के अध्यक्ष अन्नू खान ने कहा कि ग्रेटर नोएडा वेस्ट को बसाने का मकसद सिर्फ पैसा कमाना था।किसी ने उन लाखों बायर्स की कभी सुध नहीं ली, जिन्होंने अपनी जिंदगी भर की कमाई देकर घर का सपना देखा था और अब भी घर का सपना ही देख रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि बिल्डर और प्राधिकरण के बीच मिलीभगत कर भ्रष्टाचार चल रहा है जो रेरा के लिए इस समय सबसे बड़ी चुनौती है।बायर्स ने कहा कि जमीन का असली मालिक आज भी प्राधिकरण है, लेकिन वो अपनी अपने दायित्वों से बचते हैं। बायर्स की शिकायतों को प्राधिकरण में नहीं सुना जाता है। बिल्डरों को जमीनी हकीकत समझे बगैर कागजों में एनओसी दे दी गई हैं। ऐसे में रेजिडेंट्स परेशान हैं। बिल्डरों को फायदा पहुंचाने के लिए प्राधिकरण ने बिल्डरों को अतिरिक्त एफएआर दिया, जिसके कारण ग्रीन एरिया खत्म हो गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here