Tuesday , July 23 2024
Breaking News

हरियाणा की परिवार पहचान पत्र परियोजना दुनियां भर में अनूठी परियोजना – मनोहर लाल

पंचकूला। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि परिवार पहचान पत्र (पीपीपी) के माध्यम से प्रदेश के 2 करोड़ 80 लाख लोगों के डाटा का सफल विश्लेषण करने के बाद हम एक बेहतरीन परियोजना दुनिया के सामने रख सकेंगे। दुनियां भर में परिवार पहचान पत्र जैसी व्यवस्था कहीं भी नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी हरियाणा की इस अनूठी  परियोजना का अध्ययन करने के लिए  कहा है जिसके बाद कई राज्यों ने अपनी टीम हरियाणा में भेजी हैं। मुख्यमंत्री मनोहर लाल बीते कल पंचकूला में परिवार पहचान पत्र को लेकर आयोजित एक वर्कशॉप को वर्चुअल माध्यम से सम्बोधित कर रहे थे।

मनोहर लाल ने कहा कि वर्तमान सरकार द्वारा  पात्र लोगों को सभी तरह की सरकारी योजनाओं और सेवाओं का लाभ देने की अवधारणा को साकार करने के लिए हरियाणा परिवार पहचान पत्र परियोजना शुरू की गई थी।  हालाँकि पहले नागरिकता की पहचान के लिए आधार कार्ड की व्यवस्था थी, लेकिन  समाज में परिवार, जिसमे बच्चे से लेकर वृद्धजन होते हैं, के डाटा की सटीक जानकारी के लिए समुचित व्यवस्था नहीं थी। उन्होंने कहा कि 2011 की जनगणना के डाटा अनुसार ही प्रदेश में बहुत से कल्याणकारी योजनाएं लागू की जा रही थी। हमने अधिकारियों के सहयोग से परिवार पहचान पत्र को शुरू किया है। जिसके बेहतरीन नतीजे सामने आ रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से परिवार पहचान पत्र के प्रति लोगों का संतुष्टि स्तर और अधिक बढ़ाने का आह्वान करते हुए कहा कि परिवार पहचान पत्र के आने से पहले अपात्र लोग भी सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ उठा लेते थे और  पात्र लोग वंचित रह जाते थे। आज सरकार के पास परिवार की सही जानकारी होने से पात्र लोगों को सभी योजनाओं का लाभ घर बैठे ही मिल रहा है जिसमे ओल्ड एज पेंशन, बीपील कार्ड सहित अन्य कल्याणकारी योजनाएं शामिल हैं।

मनोहर लाल ने कहा कि परिवार पहचान पत्र को लेकर आय सम्बन्धी त्रुटियों को सही करते समय अधिकारी इस बात का ध्यान रखें कि लोगों में किसी प्रकार की निराशा न  हो और परिवार पहचान पत्र  के प्रति जनता में विश्वाश और मज़बूत हो।  साथ ही इस परियोजना की सफलता के लिए लोगों से मिलने वाले बेहतरीन सुझावों को भी शामिल करने की दिशा में भी कार्य करें। उन्होंने कहा कि प्रदेश के प्रत्येक परिवार को खुशहाल बनाने में परिवार पहचान पत्र परियोजना मील का पत्थर साबित होगी।

इस अवसर पर परिवार पहचान पत्र को लेकर आयोजित वर्कशॉप में उपस्थित मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव वी उमाशंकर ने बताया कि आज 11 ज़िलों की यह वर्कशॉप आयोजित की गई है जिसमें विभिन्न सत्रों में अधिकारियों से अच्छे सुझाव आए हैं। उन्होंने वर्कशॉप में आयोजित सत्रों को लेकर भी जानकारी दी। इस अवसर पर हरियाणा परिवार पहचान प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विकास गुप्ता और नागरिक संसाधन सूचना विभाग की सचिव सोफ़िया दहिया भी उपस्थित थी।

About News Desk

Check Also

गंदगी के चलते लोगों को करना पड़ रहा था बड़ी समस्या का सामना

बल्लभगढ़ के दशहरा ग्राउंड में नगर निगम द्वारा पिछले काफी समय से पूरे शहर के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *