हिमाचल में बारिश ने तोड़ा 8 साल का रिकॉर्ड 

0
38

देश में आफत काल वाली स्तिथि है। क्युकी मैदानों में बारिश और बाढ़ की स्थिति खत्म भी नहीं हुई और पहाड़ो पर अब आफत शुरू हो गई है। हिमाचल में भारी बारिश से नदी नाले उफान पर है। मंडी में तो व्यास नदी ने तो ऐसा रौद्र रूप धारण किया हुआ है कि लोग वहा पर सहमे हुए है। पहाड़ से लेकर मैदान तक आसमान से आफत बरस रही है। नदी नाले उफान पर है। सड़को पर सैलाब उमड़ आया है। चलिए बात करते है हिमाचल प्रदेश की क्युकी यहां आसमान से आफत बरस रही है। लहरों का शोर ऐसा की किसी के भी रोमटे खड़े हो जाए। केरल और महाराष्ट्र के बाद देश के पहाड़ी राज्य अब भारी बारिश और बाढ़ के कहर से जूझ रहे हैं। इनमें हिमाचल प्रदेश उत्तराखंड और जम्मू के कुछ इलाके भी शामिल हैं।  हिमाचल प्रदेश में मूसलाधार बारिश से 48 घंटे में 21 लोगों की मौत हो गई है..

हिमाचल प्रदेश में सोमवार सुबह मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया है और चार जिलों में मूसलाधार बारिश के चेतावनी जारी की है. मौसम विभाग के अनुसार, ऊना, कांगड़ा, बिलासपुर और सिरमौर में तेज बारिश होगी. हालांकि चार जिलों में सिरमौर, कुल्लू, बिलासपुर, सोलन और शिमला में स्कूल कॉलेजों में छुट्टी कर दी गई है…वही हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर में 1 छात्र और 2 अध्यापक भी पानी में बह गए। लेकिन समय रहते पानी में बह रहे छात्र और अध्यापक को रेस्क्यू कर बचा लिया गया है।  हिमाचल प्रदेश में मूसलाधार बरसात से 48 घंटे में 21 लोगों की मौत हो गई है. 18 नेश्नल हाईवे समेत 850 se jyda सड़कें बंद हैं. मरने वालों में 14 पुरुष, 1 महिला और 3 बच्चे शामिल हैं. ये मौतें लोगों के बाढ़ में बहने और भूस्खलन के कारण हुई हैं….वही मौसम विभाग की माने तो सोमवार से बारिश में कमी आनी की संभावना है, जिससे हालात थोड़े सामान्य होंगे…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here