ईरान को आतंकवाद का समर्थन छोड़ना होगा- ट्रंप

0
259

आज पूरी दुनिया की नजर अमेरिका और ईरान के बीच छिड़ी तानातनी पर है …ईरान के जनरल सुलेमानी की मौत के बाद दोनों देशों की ओर से जुबानी हमले एक दुसरे पर किये जाए रहे है…गौरतलब है कि ईरान ने दो दिन पहले भी अमेरीकी दूतावास को निशाना बनाकर मिसाइल हमला किया था. तब भी मिसाइलें ग्रीन जोन में अमेरिकी दूतावास से कुछ दूर गिरी थीं. इस हमले में भी कोई नुकसान नहीं हुआ था. एक दिन पहले भी ईरान ने अमेरिकी सैन्य ठिकाने को निशाना बनाकर दर्जन भर मिसाइलें दागी थीं….ईरान ने इस हमले में 80 अमेरिकी सैनिकों के मारे जाने का दावा किया था, जिसे अमेरिकी राष्ट्रपति ने सिरे से खारिज कर दिया. उन्होंने हमले की पुष्टि की, लेकिन साथ ही दावा किया कि इसमें किसी अमेरिकी सैनिक या इराकी को नुकसान नहीं हुआ है. ईरान के नेता अयातुल्लाह खुमैनी ने हमले को अमेरिका के गाल पर करारा तमाचा बताया था…डोनाल्ड ट्रंप ने कहा ईरान का अब पतन हो रहा है, जो दुनिया के लिए बेहद अच्छा है. ईरान को परमाणु हथियार बनाने की महत्वाकांक्षा छोड़नी ही होगी. ईरान को आतंकवाद का समर्थन छोड़ना होगा. हम ईरान के साथ ऐसा समझौता करने की कोशिश करेंगे जिससे दुनिया को शांति की ओर बढ़ाया जा सके…राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि ईरान एक बेहतर देश हो सकता है. शांति और स्थिरता मध्य-पूर्व में तब तक स्थापित नहीं हो सकती है, जब तक ईरान में हिंसा जारी रहेगी. विश्व को एकजुट होकर ईरान के खिलाफ यह संदेश जारी करना होगा कि ईरान की ओर से चलाए जा रहे टेरर कैंपेन को आगे बढ़ने की इजाजत नहीं दी जाएगी….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here