Breaking News

विजय दिवस पर किया कारगिल शहीदों का याद : जिला सैनिक बोर्ड परिसर में पूर्व सैनिकों ने दी कारगिल शहीदों को श्रद्धाजंलि

कारगिल विजय दिवस को झज्जर जिला मुख्यालय पर अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित कर

न सिर्फ कारगिल शहीदों को नमन किया गया बल्कि उन्हें पूर्व सैनिकों और

जिला प्रशासन की तरफ से श्रद्धाजंलि भी अर्पित की गई। झज्जर जिला सैनिक

बोर्ड परिसर में पूर्व सैनिकों ने कारगिल शहीदों को नमन कर उनके परिवारों

के कुशल मार्ग दर्शन की भी सराहना की जिन्होंने अपने लाड़ले को संस्कार

देकर उसे देश की सीमाओं की रक्षा के लिए भेजा। श्रद्धाजंलि देने वालों

मेें वह पूर्व सैनिक भी शामिल रहे जोकि कारगिल युूद्ध में अपनी-अपनी

यूनिट की तरफ से कारगिल विजय की लड़ाई लड़ रहे थे। उन्होंने कारगिल

शहीदों को नमन करते हुए उस दौरान के कारगिल युद्ध के बारे में भी जानकारी

कि कैसे पाकिस्तान ने उनकी चौकियों पर कब्जा किया था और कैसे उनके

सैनिकों ने देशसेवा का जज्बा पेश करते हुए कारगिल की विजय की लड़ाई लड़ी।

उन्होंने बताया कि उस दौरान पाकिस्तान के विरोध में हमारे सैनिकों का

अपने देश की सीमाओं की रक्षा के लिए देशभक्ति का जज्बा देखते ही बनता था।

पाकिस्तान ने गद्दारी कर उनकी पोस्टों पर कब्जा किया। जिसे उनके सैनिकों

ने बहादुरी का परिचय देते हुए छुड़ाया। जिसके लिए कई सैनिक जहां घायल हुए

वहीं कईयों ने अपने प्राणों की आहूति भी दी। उन्हीं की बहादुरी का ही

परिणाम है कि आज हम कारगिल विजय दिवस को मना रहे है। उधर जिला उपायुक्त

शक्ति सिंह ने भी यहां बाल भवन में कारगिल शहीदों को नमन किया और उन्हें

अपनी श्रद्धाजंलि अर्पित की। उपायुक्त शक्ति सिंह ने कहा कि कारगिल विजय

दिवस पर कारगिल के शहीदों की जितनी प्रशंसा की जाए उतनी ही कम है।

क्योंकि उन्होंने बहादुरी का परिचय देकर पाक से हमारी सीमओं को मुक्त

कराया और देश की सीमाओं की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहूति दी।

उन्होंने यह भी कहा कि सैनिकों ने ही नहीं बल्कि उनके परिवारों ने भी

हमारे देश का गौरव बढ़ाया है। आज देश कर हर सैनिक और उनका परिवार हमारे

लिए गौरव का प्रतीक है।

About ANV News

Check Also

Paddy procurement

धान की सरकारी खरीद 1 अक्तुबर से शुरू करने का फैसला अव्यवहारिक और किसान व पर्यावरण विरोधी – ड़ा लाठर

पंजाब और हरियाणा मे पर्यावरण हितेषी सीधी बिजाई धान को प्रोत्साहन देने के लिए सरकारी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share