हिमाचल में भारी बारिश से जन -जीवन अस्त व्यस्त

0
80
hp

प्रदेश में भारी बारिश के चलते जिंदगी पटरी पर लौटने को नाम नहीं ले रही है। भारी बारिश से बद से बदतर हुए हालातों के बीच सोमवार को भी प्रदेश भर में छह और मौतें हुई हैं। इनमें से जिला शिमला में तीन तथा चंबा, हमीरपुर व कुल्लू में एक-एक मौत हुई है। राज्य में बारिश से मौतोें का आंकड़ा 49 तक पहुंच गया है। राज्य में हालात अभी सुधरने वाले भी नहीं हैं, क्योंकि मौसम विभाग ने 25 अगस्त तक प्रदेश में मौसम खराब रहने का पूर्वानुमान जारी किया है। राज्य में जगह-जगह भू-स्खलन होने से जनजीवन की रफ्तार थम सी गई है। राज्य में अब भी 1088 मार्ग अवरुद्ध पड़े हुए हैं। ऐसे में जिंदगी को पटरी में लौटने के लिए कुछ और दिनों का समय लगेगा। भारी बारिश से समूचे राज्य में अफरातफरी का माहौल बना हुआ है। नदी-नाले उफान पर हैं। कई जगह बिजली-पानी की व्यवस्था ठप पड़ी हुई है। मानसून ने राज्य लोगों की दिनचर्या की रफ्तार पर ब्रेक लगा दी है। राज्य में बारिश के कारण 1088 सड़कें बंद पड़ी हुई हैं। शिमला जोन में सबसे ज्यादा 459 मार्ग अवरुद्ध चल रहे है। इसके अलावा मंडी जोन में 344, कांगड़ा में 191 और हमीरपुर जोन में 91 सड़कें यातायात के लिए अवरुद्ध पड़ी हुई हैं। लोक निर्माण विभाग का दावा है कि बंद पड़े मार्गों में से 513 मार्ग जल्द बहाल कर दिए जाएंगे, जबकि 265 मार्ग मंगलवार तक और 310 मार्गाें के बुधवार तक बहाल होने का दावा किया जा रहा है। मणिमहेश में बर्फबारी होने का समाचार है, जिससे वहां हालात और खराब हो गए हैं। चंबा जिला में मंगलवार को भी स्कूलों में छुट्टी रहेगी। पांवटा साहिब में बाढ़ के चलते फंसे नौ लोगों का रेस्क्यू किया गया है। एचआरटीसी के हजार से ज्यादा रूट ठप पड़े हुए हैं। हिमाचल में बारिश से अब तक 664 करोड़ 60 लाख का नुकसान हो चुका है। लोक निर्माण विभाग को सबसे ज्यादा 386 करोड़ 40 लाख का नुकसान हुआ है। इसके अलावा आईपीएच विभाग को बारिश ने 278 करोड़ 20 लाख की चपत लगी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here