सी एम विंडो पर शिकायतों को लेकर बैठक

0
174

बागवानी मिशन योजना के अंतर्गत सरकारी राशि के दुरूपयोग और गबन के मामले की सीएम विंडो पर मिली शिकायत पर संज्ञान लेते हुए सिरसा के तत्कालीन जिला बागवानी अधिकारी आत्मप्रकाश को निलम्बित कर दिया गया…इसके अलावा, बिजली विभाग के तीन जेई, एक फोरमैन और एक LLM के विरूद्ध एफआईआर दर्ज करने के भी निर्देश दिए गए हैं..मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी कार्यक्रम के परियोजना निदेशक डॉ0 राकेश गुप्ता ने यह निर्देश सीएम विंडो के संबंध में नोडल अधिकारियों की बैठक के दौरान दिए… चण्डीगढ में बैठक के दौरान बागवानी विभाग के अंतर्गत आई शिकायत के बारे में बताया गया कि सिरसा में मॉडल नर्सरी खोली जानी थी, लेकिन जब मुख्यालय से अधिकारी साईट पर गए तो वहां पर मॉडल नर्सरी स्थापित नहीं की गई थी और जिला बागवानी अधिकारी आत्मप्रकाश ने कृषि विभाग की मंजूरी के बिना मॉडल नर्सरी को स्थापित करने हेतू 9 लाख रुपए की सबसिडी जारी कर दी थी। नियमानुसार कृषि विभाग द्वारा मॉडल नर्सरी स्थापित करने के लिए लाईसेंस जारी किया जाता है जोकि इस नर्सरी को स्थापित करने के लिए नहीं लिया गया था। इस मामले की जांच में यह भी पाया गया कि इस मॉडल  नर्सरी के लिए सबसिडी 30 मार्च 2009 को जारी कर दी गई थी, जबकि सबसिडी जारी करने के लिए मुख्यालय को पत्र 1 जून 2009 को लिखा गया था। बैठक में इस मामले पर एफआईआर दर्ज करवाने के लिए भी विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए गए। बैठक के दौरान बिजली विभाग से संबंधित एक मामले में बिजली का सामान चोरी को लेकर विभाग के तीन जेई, एक फोरमैन तथा एक ALM के KHILAF एफआईआर दर्ज करने के भी आदेश दिए गए। बैठक के दौरान सहकारी समितियों के रजिस्ट्रार कार्यालय से संबधित एक मामले में उप-रजिस्टार सहकारी समितियां, गुरूग्राम महाबीर शर्मा के विरूद्व कारण बताओ नोटिस जारी करने के आदेश भी दिए गए। बैठक में परियोजना निदेशक ने जिन विभागों द्वारा सीएम विण्डों पर आई हुई शिकायतों का समय बद्व निपटारा किया गया उन विभागों के नोडल अधिकारियों की प्रंशसा भी की…  उन्होंने नोडल अधिकारियों से कहा कि अपनी सभी लम्बित शिकायतों का जल्द से जल्द निपटारा करें ताकि लोगों को सुविधाएं मिल सके और लंबित शिकायतों की संख्या भी कम हो सकें। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here