Tuesday , April 23 2024
Breaking News

जिला स्तरीय समन्वय समिति की स्थानीय लघु सचिवालय के सभागार में राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम

डीसी डॉ. संगीता तेतरवाल ने कहा कि बच्चों के भविष्य को उज्ज्वल बनाने के लिए उनके शारीरिक और मानसिक उत्थान के लिए संयुक्त रूप से काम करने की जरूरत है। बच्चे देश का भविष्य हैं। देश के भावी कर्णधार हैं। इसलिए जरूरत इस बात की है कि जन्म से ही बच्चों के स्वास्थ्य का विशेष ख्याल रखा जाए। इतना ही नहीं तंबाकू का सेवन भी हम सबके लिए बहुत खतरनाक है। तंबाकू का प्रयोग नहीं करने के लिए जिला में शहरी क्षेत्र के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्र में भी लोगों को जागरूक करने की जरूरत है।

          डीसी डॉ. संगीता तेतरवाल वीरवार को स्थानीय लघु सचिवालय के सभागार में राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम, डी-वार्मिंग तथा टीबी उन्मूलन संबंधित विषय को लेकर आयोजित बैठक में संबंधित विभागों के अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दे रही थी। डीसी ने कहा कि आगामी 10 फरवरी को राष्ट्रीय डी-वार्मिंग डे के दृष्टिगत स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी प्लानिंग के साथ कार्य करें। इसके लिए अन्य विभागों से भी पूरा सहयोग लिया जाए। इस विषय को लेकर गंभीरता से काम करने की जरूरत है।

          उन्होंने कहा कि जिला के सभी सरकारी और प्राईवेट स्कूलों को कवर करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसके साथ-साथ आंगनवाड़ी सैंटरों को भी कवर किया जाएगा। प्राप्त जानकारी के अनुसार जिला में कुल 603 सरकारी स्कूल हैं, जबकि 359 प्राईवेट स्कूल हैं। आंगनवाडि़यों की संख्या 1270 है। सभी में एक वर्ष से 19 वर्ष की आयु वर्ग के बच्चों को कवर किया जाएगा। इस विषय को लेकर अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि वे राष्ट्रीय डी-वार्मिंग डे पर निर्धारित नियमों की पालना करते हुए एल्बैंडाजॉल की दवा दें। उन्होंने बताया कि समूचे जिला में 4 लाख 28 हजार 477 बच्चों को कवर करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।       

          डीसी डॉ. संगीता तेतरवाल ने तंबाकू नियंत्रण संबंधित विषय पर बोलते हुए कहा कि तंबाकू का सेवन स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक है। कोई भी तंबाकू का सेवन नहीं करें, इसके लिए अधिक से अधिक लोगों को जागरूक किया जाए। उन्होंने डीडीपीओ कंवर दमन को निर्देश देते हुए कहा कि वे पंचायती राज संस्थाओं के माध्यम से लोगों को जागरूक करें कि तंबाकू का सेवन नही करें। इसके लिए पुलिस विभाग, डीआईपीआरओ कार्यालय, रैडक्रॉस तथा शिक्षा विभाग के साथ-साथ समाज सेवी संस्थाओं और एैच्छिक संगठनों का सहयोग लिया जाए। उन्होंने कहा कि तंबाकू में कई प्रकार का कैंसर पाया जाता है, जोकि स्वास्थ्य के लिए घातक है। इसलिए सभी को सतर्क और सावधान रहने की जरूरत है कि वे ना तो स्वयं और ना ही अपने बच्चों को तंबाकू का सेवन करने दें। उन्होंने यह भी कहा कि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी वीडियो बनाकर सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचार करें। सार्वजनिक स्थानों पर स्मोकिंग पूरी तरह से वर्जित है, इसलिए यदि कोई उल्लंघन करता पाया जाता है तो उनके खिलाफ आवश्यक कार्रवाई अमल में लाई जाए।  उन्होंने शिक्षा विभाग को निर्देश दिए कि सुबह प्रार्थना के समय और माता-पिता की मासिक बैठक के दौरान उन्हें बताया जाए कि तंबाकू का सेवन कतई ठीक नहीं है।

          डीसी डॉ. संगीता तेतरवाल ने कहा कि टीबी के उन्मूलन हेतू निक्षय मित्र कार्यक्रम की शुरूआत की गई है। प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान का शुभारंभ किया गया है। इसके तहत टीबी रोगियों को किसी व्यक्ति, प्रतिनिधियों या संस्थानों द्वारा पोषण की सहायता दी जा सकती है। प्राप्त जानकारी के अनुसार 86 प्रतिशत से अधिक टीबी रोगियों ने सहायता के लिए अपनी सहमति दी है। टीबी रोगियों को सहायता देने वालों को निक्षय मित्र कहा जाएगा। निक्षय मित्र बनने के लिए कॉम्यूनिटीस्पोर्ट डॉट निक्षय डॉट इन पर लॉग इन करके पूरी जानकारी ली जा सकती है। जिला के लोगों को चाहिए कि वे ऐसी बीमारी से बचाव हेतू सरकार और प्रशासन का भरपूर सहयोग करें। निक्षय हैल्पलाईन का नंबर 1800-11-6666 है।

          इस मौके पर सीएमओ डॉ. अशोक कुमार, पीएमओ डॉ. रेणू चावला, डॉ संदीप बातिश, डॉ. संदीप जैन, डॉ. गौरव पूनिया के अलावा अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

About admin

Check Also

माफिया मुख्तार अंसारी को जहर देने के आरोपों पर बड़ा खुलासा

मुख्तार को जेल में जहर देने का मामला ठंडे बस्ते में जाता नजर आ रहा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *