Breaking News

एक फिर अन्नदाता पर कुदरत की मार

एक फिर अन्नदाता पर कुदरत की मार | धान की फसल में आई नई बीमारी | किसानों की फसल हो रही खराब अन्नदाता हुआ परेशान | डॉक्टरों के पास भी नहीं कोई समाधान पानीपत जिले के किसानों के चेहरे पर एक बार फिर से निराशा छा गई है क्योंकि अबकी बार किसान पर कुदरत की मार पड़ी है और धान की फसल में नई बीमारी ने जन्म ले लिया है जिसकी वजह से धान की फसल बढ़ नहीं पाई है और कहीं से तो बिल्कुल ही खराब हो गई हैं किसानों का कहना है कि हर साल इस मौसम तक धान की फसल की लंबाई पूर्ण हो जाती थी और कुछ समय बाद ही उस पर फल आना स्टार्ट हो जाता था और फसल पक जाती थी और नवंबर के माह में कटने लग जाती थी।

लेकिन अबकी बार अन्नदाता पर कुदरत की मार पड़ी है जिसकी वजह से फसल के अंदर पंप इन नई बीमारी की वजह से फसल बढ़ नहीं पाई है और फसल बोनी रह गई है । जिसकी वजह से फसल खराब हो रही है । अन्नदाता का कहना है कि फसल बढ़ेगी नहीं तो इस पर फल भी अच्छा नहीं आएगा जिसकी वजह से उन्हें भारी नुकसान हुआ है किसानों ने सरकार से मांग की है कि उनकी फसल की गिरदावरी करवाकर उचित मुआवजा दिया जाना चाहिए और इस दौरान किसानों ने इस बार धान का भाव 6 हजार प्रति क्विंटल की मांग की है… किसानों का कहना है कि उनकी अधिकतर फसल इस बीमारी की चपेट में आ चुकी है।

वहीं कृषि विभाग के सहायक पौधा संरक्षण अधिकारी राजेश भारद्वाज ने जानकारी देते हुए बताया कि उन्हें हाल ही में किसानों की ओर से इस बीमारी के बारे में सूचना मिली है जिसके बारे में उन्होंने अपने आला अधिकारियों को अवगत करा दिया है और डॉक्टरों से इसकी सलाह ली जा रही हैं अधिकारी की मानें तो पानीपत जिले में दो से तीन परसेंट की फसल खराब हुई है। अधिकारी किसानों को इस बीमारी का इलाज भी बता रहे हैं।

अधिकारी ने लोगों से अपील की है कि जिस किसान की फसल में यह बीमारी आती है वह है संबंधित विभाग के अधिकारियों को इसके बारे में सूचित करें और कृषि विभाग द्वारा जो फसल पर स्प्रे बताया गया है वह फसल पर करवाएं जिससे फसल बच सके।

About shivani

Check Also

सांसद बृजेंद्र सिंह की रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से मुलाक़ात

हिसार के सांसद बृजेंद्र सिंह ने आज रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से मुलाक़ात कर अपने …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share