पैसे लेकर सामूहिक नकल करवा रहे थे फार्मेसी कॉलेज, जानिए आगे क्या हुआ ??

0
263

सितंबर और अक्तूबर में फार्मेसी कॉलेज में हुई ऑफलाइन परीक्षा में पैसे लेकर सामूहिक नकल के बड़े मामले का खुलासा हुआ है। तकनीकी शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव स्तर पर कराई गई जांच में सभी विद्यार्थियों की उत्तर पुस्तिका के प्रश्न के हूबहू उत्तर लिखे मिले हैं। अब विभाग लहरागागा के इन सात फार्मेसी कॉलेजों की मान्यता रद्द करने की तैयारी कर रहा है।

तकनीकी शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव अनुराग वर्मा ने बताया कि मामले की गंभीरता को देखते हुए सचिव, पंजाब राज तकनीकी शिक्षा और औद्योगिक प्रशिक्षण बोर्ड से जांच रिपोर्ट मांगी गई। इन कॉलेजों के पेपर चेक करने के लिए सरकारी बहुतकनीकी कॉलेज (लड़कियां), पटियाला भेजे गए थे। इसके प्रिंसिपल से भी रिपोर्ट मांगी गई थी। 

रिपोर्ट में चेक करने पर पाया कि विद्यार्थियों की तरफ से दी गई ऑफलाइन परीक्षा में उनकी उत्तर पुस्तिकाएं एक-एक अक्षर मिल रही हैं। ऑनलाइन हल किए पेपरों में भी कई पेपर लगभग मिलते हैं। सभी विद्यार्थियों ने एक ही जैसे प्रश्न हल करने के लिए चिह्नित किए हैं।

साथ ही सभी विद्यार्थियों ने एक ही जैसे उत्तर भी हल किए हैं। सामूहिक नकल के इस खुलासे के बाद अब विभाग इन सातों फार्मेसी कॉलेजों की मान्यता रद्द करने और नकल करवाने में शामिल संस्था के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की तैयारी कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here