सोशल मीडिया के दुरूपयोग का मामला

0
143

सोशल मीडिया का उपयोग के साथ-साथ दुरुपयोग भी हो रहा है। सोशल मीडिया द्वारा रोडवेज डिर्पाटमैंट को तो खूब चूना लगाया जा रहा है। रोडवेज बसों में फ्री में सफर करने वाले युवा इतने सक्रिय हैं कि रोडवेज की जीएम की फ्लाइंग तक की पूरी जानकारी रखते हैं। बे-टिकट यात्रा करने वाले युवाओं ने अपने व्हाटस अप पर 20 से भी ज्यादा ग्रुप बनाए हुए हैं जो कि उन्हें फ्लाइंग की पल-पल की जानकारी देते हैं। ऐसे में यह युवा प्रतिदिन बसों में फ्री सफर करते हैं और फ्लाइंग से भी आसानी से बच निकलते हैं… जींद डिपो से विभिन्न रूटों पर जाने वाली बसों में सफर करने वाले युवाओं के व्हाटस अप गु्रप सक्रिय है। इन बे-टिकट युवाओं द्वारा व्हाटस ग्रुप पर हिसार,रोहतक से दिल्ली,जींद से रोहतक और कई नामों से व्हाटस अप ग्रुप बनाए हुए हैं। इन ग्रुपों  के एडमिन समेत अन्य मैंबर प्रतिदिन विभिन्न रूटों पर सफर करते हैं। हालांकि कभी-कभार फ्लाइंग टीम छापेमारी कर ग्रुपों को चला रहे युवाओं को सफर के दौरान पकड़ लेती है। जब उनके मोबाइलों को चैक किया जाता है तो उनमें फ्लाइंग की गुप्त जानकारी देने वाले बनाए हुए ग्रुप मिलते हैं। आप को बता दे की हिसार में एक गु्रप एडमिन के खिलाफ पिछले दिनों व्हाटस अप ग्रुप पर रोडवेज फ्लाइंग की गुप्त जानकारी देने वाले एक युवक के खिलाफ केस दर्ज कराया था। रोडवेज फ्लाइंग हिसार द्वारा गुरु जम्भेश्वर यूनिवर्सिटी के सामने एक बस की चैकिंग के दौरान बे-टिकट पकड़े गए युवक के मोबाइल से एक व्हाटस अप ग्रुप मिला था। उक्त युवक ने गु्रप में 250 लोगों को जोड़ा हुआ था। उस गु्रप में रोडवेज फ्लाइंग की गुप्त जानकारी देने के मैसेज पाए गए। इस पर रोडवेज फ्लाइंग हिसार की टीम ने उस युवक पर कार्रवाई करते हुए इसकी शिकायत पुलिस को दी थी। पुलिस ने इस मामले में युवक के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here