NRC को लेकर विपक्षी पार्टियों के दावे हुए फेल

0
280
NRC

उच्चतम न्यायालय के कड़े तेवर के बाद असम में तैयार हुए नागरिकता रजिस्टर यानी एनआरसी का अंतिम प्रारूप आखिरकार 31 अगस्त को आया तो कई चौंकाने वाली बातें भी सामने आईं। सबसे पहली बात तो यह झूठी साबित हुई कि असम में विदेशियों की संख्या करोड़ में हो सकती है और इसका दावा यहां के लगभग सभी राजनीतिक दलों की ओर से किया जाता रहा है। जबकि 19 लाख लोग एनआरसी से बाहर हुए हैं। इनमें से भी करीब तीन लाख लोगों ने कोई दावा ही नहीं किया और इन लोगों के लिए अभी अपील की गुंजाइश है। एनआरसी से बाहर हुए नामों में हिंदू भी बड़ी संख्या में हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here