सरकार को शराब को सस्ता करने की अपेक्षा समाज पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव को देखते हुए शराब बिक्री पर पूर्ण प्रतिबंध लगाना चाहिए था -अमरजीत

0
199

शिमला।एक तरफ हिमाचल प्रदेश पुलिस ने प्रदेश को नशा मुक्त बनाने का लिए दृढ़ संकल्प लिया है । वहीं दूसरी ओर हिमाचल प्रदेश सरकार ने शराब की कीमतों को कम करने का निर्णय लिया है । यह बात मानव सेवा संस्थान एवं ट्रस्ट कोर्टखाई की भ्रष्टाचार एवं कानूनी सहायता यूनिट के राष्ट्रीय अध्यक्ष तथा हिमाचल प्रदेश इंटक के महासचिव श्री अमरजीत ने कही । अमरजीत का कहना है कि शराब की कीमतों को कम करने की बजाय हिमाचल प्रदेश में शराब के ऊपर पूर्ण प्रतिबंध लगाना चाहिए था । प्रदेश सरकार ने अपने राजस्व को ध्यान में रखते हुए यह कदम उठाए हैं ।जबकि सरकार को शराब के कारण समाज पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव को ध्यान में रखते हुए शराब बिक्री पर पूर्ण प्रतिबंध लगाना चाहिए था ।शराब के कारण समाज में दिन-प्रतिदिन घरेलू हिंसाए बढ़ रही है । जो कि डिजिटल इंडिया की कल्पना के लिए गंभीर समस्या बनती जा रही है । अमरजीत का कहना है कि शराब के कारण कई दुर्घटनाएं भी होती है जिसके कारण ना जाने कितने लोगों को काल का ग्रास बनना पड़ा है । उनका कहना है कि हिमाचल प्रदेश में कई संस्थाएं सरकार के साथ मिलकर लोगों को नशे से दूर रहने के लिए जागरूक कर रही है । लेकिन उनका कहना है कि उनके द्वारा चलाए जा रहे अभियान की धज्जियां हिमाचल प्रदेश सरकार के द्वारा लिए गए फैसले के कारण उड़ती हुई नजर आ रही है । अमरजीत का कहना है कि हिमाचल प्रदेश सरकार अगर सही मायने में हिमाचल प्रदेश को नशा मुक्त राज्य बनाना चाहती है तो प्रदेश सरकार को तुरंत प्रभाव से शराब तथा अन्य मादक पदार्थों की बिक्री पर पूर्ण प्रतिबंध लगा देना चाहिए ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here