Thursday , February 22 2024
Breaking News

बे नतीजा रही प्रशासन और संधोल संघर्ष समिति की बैठक, 22 दिन से जारी आंदोलन

सरकाघाट। उपमंडल धरमपुर की संधोल तहसील में पिछले 22 दिनों से अपनी मांगों को लेकर क्रमिक अनशन पर बैठी नारी शक्ति से मिलने बुधवार को प्रसाशनऔर विभाग की तरफ से उपमंडल अधिकारी नागरिक धर्मपुर राजेन्द्र गौतम और मुख्य चिकित्सा अधिकारी मंडी नरेंद्र कुमार भरद्वाज जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ दिनेश ठाकुर बीएमओ धर्मपाल ठाकुर संधोल पहुंचे, सभी अधिकारीयों ने आन्दोलन की संयोजक पूनम ठाकुर, बीडीसी सदस्य प्रवीण कुमार , संधोल पंचायत प्रधान कुलदीप सिंह बिष्ट, गोवेल्ला पंचायत प्रधान पंकज ठाकुर, व्यापार मंडल के अध्यक्ष संजय कुमार सहित मोक्षधाम समिति के अध्यक्ष दर्जनों प्रतिनिधियों से बातचीत कर मुद्दे का हल निकलने की कोशिश की जिसमे विभाग से आये मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने समूचे मंडी जिला में स्त्री रोग विशेषज्ञ, रेडिओलोजिस्ट की कमी से इन प्रतिनिधियों को अवगत करवाया।

उन्होंने बताया कि उनके पास केवल मंडी और सरकाघाट में ही स्त्री रोग विशेषज्ञ हैं, जिसमे से सरकाघाट के विशेषज्ञ मातृत्व अवकास पर हैं तो ऐसे में वे संधोल के लिए स्त्री रोग विशेषज्ञ तैनात करने में असमर्थ हैं। जबकि सरकाघाट के वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी खुद अल्ट्रा साउंड करते हैं और उनके उन्हें यहाँ भेजना भी संभव नहीं हैं। हालांकि, उन्होंने बताया कि उन्होंने सरकार को यहाँ की स्थिति से अवगत करवा दिया हैं और सरकार इस पर कोई फैसला ले सकती है। जबकि नए भवन में स्थानातरण के लिए उन्होंने बताया कि इसके लिए भी सरकार से आग्रह कर चुके हैं और खुद भी अपने स्तर पर भवन के एक हिस्से को सुचारू करने के लिए प्रयासरत हैं।

जबकि उपमंडल अधिकारी नागरिक ने भी महिलाओं को आश्वस्त किया की वे सरकार से इस बारे में बात कर रहे हैं और प्रयासरत हैं कि इस मसले का जल्द से जल्द हल निकल सके। लेकिन, महिलाओं का कहना था की विशेषज्ञ डाक्टर की कमी पूरी करना सरकार का काम हैं, नारी शक्ति को परेशानी हैं खास कर गरीब परिवारों से सम्बंधित नारी शक्ति को इसलिए जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं होती वे पीछे हटने वाली नहीं हैं। उन्होने SDM से आग्रह किया कि उनके विधायक पिछले डेढ़ महीने से उनको पूछने तक नहीं आए हैं, जिससे समस्त नारी शक्ति आहात है इस तरह तहसील परिसर में हुई बातचीत एसा दोनों पक्षों में कोई भी सार्थक हल नहीं निकल सका।

आपको बता दें कि पिछले शनिवार से इन महिलाओं ने 24 घंटे दिन रात का आन्दोलन छेड़ दिया है। जिसमे महिलाएं खून जमा देने वाली शरद रातों में  धरने स्थान पर पूरी निष्ठां के साथ डटी हैं। जिसमे ड्मयोडी से सुदर्हिशना देवी, दतवाड से कृष्णा देवी और लसराणा से राजकुमारी आज अनशन पर बैठी हैं। इन महिलाओं ने बताया की जहाँ सरकार महिलाओं के हितों के लिए महिला आरक्षण विधेयक लाइ है। वहीँ संधोल में आज भी महिलाएं अपने मूलभूत अधिकारों के लिए सड़कों पर धक्के खा रही हैं। उन्होंने बताया की आज डेढ़ महीने से महिलायें अपने हकों के लिए सरकार के आगे हाथ फैला कर अपने हक़ मांग रहीं हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। इनका कहना है कि इस आन्दोलन से जो भी अपना हित साधने में व्यस्त हैं और उन्हें महिलाओं की पुकार सुनाइ नहीं दे रही वे आने वाले समय में अपने वजूद को भी नहीं बचा सकते। महिलाओं का कहना है की इस बार संधोल के लोगों ने खास कर नारी शक्ति ने मूलभूत सुविधाओं के लिए परिवर्तन के लिए वोट किया था लेकिन उन्हें यह पता नहीं था कि उनके विश्वास को इस तरह सड़कों पर बिखरने के लिए छोड़ दिया जायेगा। अब यदि उनकी मांगे पूरी नहीं हुई तो महिलायें और ज्यादा उग्र रूप धारण करेंगी  ।

स्थानीय नुमय्न्दो पंकज ठाकुर प्रधान गोवेल्ला, कुलदीप चंद बिष्ट प्रधान संधोल, प्रवीण कुमार पंचायत समिति सदस्य, अनिल कुमार उप प्रधान कोठुवान, अनिल भार्मोरिया उप प्रधान गोवेल्ला इत्यादि ने सरकार और विभाग से लोगों और महिलाओं की मांगो का सम्मान कर जल्द से जल्द समाधान निकालने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा की एक प्रधान से लेकर प्रधानमंत्री तक सब जनता के सेवक होते हैं उन्हें जनता की सेवा के लिए सदैव तत्पर रहना चाहिए। उधर, इस आन्दोलन की संयोजक पूनम ठाकुर का कहना है की महिलाएं केवल अपना हक़ मांग रही हैं जिसे सरकार को बिना विलम्ब मान लेना चाहिए। उनका कहना है की जब तक संधोल के सभी मुद्दे जो उन्होंने उठाये है, हल नहीं होते तब तक उनकी लड़ाई जारी रहेगी  ।

CMO मंडी नरेंदर भारद्वाज ने बताया कि व्यस्तता के कारण वे इतने दिन तक यहाँ नहीं पहुँच पाए, जिसके लिए इन्होने महिलाओं से खेद प्रकट किया और आश्वस्त करवाया की महिलाओं की मांगो को सरकार तक पहुँचाया जायेगा। उपमंडल अधिकारी नागरिक धरमपुर राजेन्द्र गौतम ने बताया की वे छुट्टी पर थे इसलिए इतने दिन तक महिलाओं से मिलने नहीं पहुँच पाए, जबकि वे स्थानीय प्रसाशनिक अधिकारी तहसीलदार से इस बारे जानकारी ले रहे थे। उन्होंने बताया की आज की बातचीत का कोई हल अभी तक नहीं निकल पाया हैं और वे इन महिलाओं के लिए सरकार और विधायक से बात करेंगे। जिसमे जल्दी ही इनकी समस्या को कोई हल निकला जायेगा।

About admin

Check Also

Haryana News

सरप्लस बरसाती पानी के सदुपयोग को लेकर राजस्थान व हरियाणा के बीच हुआ DPR बनाने का समझौता….

चंडीगढ़। मानसून में जुलाई से अक्टूबर के दौरान, जो बरसाती पानी नदी के ज़रिए समुद्र …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *