गिरिनदी में खेतों का पानी पीकर जीवित रहा युवक

0
197
giri river

हिम्मत व साहस की बदौलत राजबन का रहने वाले विवेक को सोमवार दोपहर रेस्क्यू किया गया। सोचिए, उफनती गिरिनदी में विवेक ने दो रातें कैसे बिताई होंगी। शनिवार सुबह 5 बजे विवेक के भाई ने प्रशासन को सूचना दी थी। दरअसल विवेक शनिवार सुबह अपनी जमीन पर खेतों में जुगाली करने गया था। इसी दौरान अचानक ही गिरिनदी में फंस गया। हालांकि प्रशासन ने शनिवार सुबह 8 बजे गोताखोरों की टीम को राजबन भेज दिया था, लेकिन गिरिनदी के उफान पर होने की वजह से गोताखोरों की जिंदगी को भी दांव पर नहीं लगाया जा सकता था। सोमवार सुबह लगभग 48 घंटे बाद गोताखोर विवेक को नदी के बीचोंबीच से सुरक्षित निकालने में कामयाब हो गए। सुरक्षित निकलने के बाद विवेक ने खुलासा किया कि हर पल नदी में जलस्तर बढ़ने का खतरा मंडरा रहा था, लेकिन हिम्मत नहीं हारी। खाने के लिए कुछ नहीं था। पानी पीकर ही गुजारा चलता रहा। कुल मिलाकर विवेक ने अपने संयम व साहस से जीवन को बचा लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here