Tuesday , July 23 2024
Breaking News

संधोल में स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर आंदोलन कर रही महिलाओं ने किया क्रमिक अनशन शुरू

सरकाघाट। उपमंडल धर्मपुर के संधोल में आन्दोलन कर रही महिलाओं का धरना प्रदर्शन आज सत्रहवें दिन काफी उग्र रहा और इसमें स्थनीय सामाजिक संस्थानों के सहयोग से बहुत बड़ी रैली का आयोजन किया गया। जिसमे करीब एक हज़ार से अधिक महिला और पुरुष सड़कों पर उतरे। आज ही इन महिलाओं और सामाजिक स्संस्थानों ने आगामी आन्दोलन की नीव भी रख डाली जिसमें आज से लगातार चौबीस घंटे का अनशन शुरू कर दिया गया। आज स्थानीय बाज़ार भी इस आन्दोलन के समर्थन में सुबह साढ़े दस बजे से साढ़े ग्यारह बजे तक करीब एक घंटे के लिए बंद रहा। लोगों में प्रदेश सरकार के खिलाफ भी काफी रोष रहा आज आयोजित रेली निर्माणाधीन लघु सचिवालय से शुरू होकर बस अड्डा, बाज़ार, पशु चिकित्सालय, कैंप होते हुए वापिस धरना स्थल तक पहुंची उसके बाद आन्दोलन की संयोजक पूनम ठाकुर, सत्या देवी और नीलम कुमारी ने अनशन पर बैठने का निर्णय लिया और अनशन पर बैठ गई।

आपका बता दें की इन महिलाओं का अनशन रात में भी जारी रहेगा। गत चौदह नवम्बर को इन महिलाओं ने तहसीलदार संधोल के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा था और उनकी मांगो पर गौर करने और संधोल अस्पताल में स्त्री रोग विशेषज्ञ, अल्ट्रासाउंड मशीन को चालू करवाने तथा अन्य रुके पड़े विकास कार्यों को शुरू करवाने को लेकर गुहार लगाई थी। गौरतलब है की इस ज्ञापन को दिए भी आज हफ्ते भर से ऊपर के दिन बीत चुके हैं। लेकिन उनका दुःख दर्द जानने के लिए अभी तक कोइ भी प्रसाशनिक अधिकारी या सरकार की तरफ से कोई नुमायन्दा नहीं पहुंचा हैं। हालांकि, अस्पताल में हाल ही में दो डॉक्टर ने कार्यभार संभाला है लेकिन महिलायें स्त्री रोग विशेषज्ञ और रेडियोलाजिस्ट से कम कुछ में भी मानने को तैयार नहीं हैं।

इस आंदोलन की अगुवाई कर रहीं कछाली महिला मण्डल की महासचिव व समन्वयक पूनम ठाकुर ने आज साफ कह दिया। उन्हें यंहा एक महिला विषेशज्ञ व रेडियोलॉजिस्ट की तैनाती के सिवा कुछ मंजूर नही। पूनम का कहना है की आज महिलायें सड़कों पर हैं और अपने हकों के लिए धरने पर मजबूर हैं, उनका कहना है की शर्म आनी चाहिए उन लोगों को जो एक नारी की आवाज़ को सुन कर भी अनसुना कर रहे है, उनका कहना है की नारी जब तक शांत है तब तक वह सीता है और जब वह उग्र रूप में आएगी तो वह दुर्गा बन जाती है । पूनम ठाकुर ने उनकी मांगो को लेकर सरकार से एक बार फिर से आग्रह किया है कि उनकी कोई बड़ी मांगे नहीं है जो नहीं मानी जा सकती । उनका कहना है कि कहाँ गए वे कार्यकर्ता और नेता जो चुनावों में विकास करवाने के बड़े बड़े दावे कर रहे थे, जो कहते थे की स्वास्थ्य सुविधाओं को सुधरेंगे और इन अधूरे भवनों में जान हम डालेंगे। 

अस्पताल में हाल में दो डाक्टर के ज्वाइन करने पर भी पूनम ने बताया कि अस्पताल में पहले से भी कुछ डॉक्टर हैं और ऐसे में दो और डॉक्टर नियुक्त हुए हैं ऐसे में उनका स्वागत हैं और इसके लिए उन्होंने प्रदेश सरकार का और विशेषतः प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविन्द्र सिंह सुखु का धन्यवाद किया हैं साथ ही उनसे आग्रह किया है की एक स्त्री रोग विशेषज्ञ और रेडियोलाजिस्ट नियुक्त करने की कृपा करे जिसके लिए उन्हें नारी और मात्री शक्ति दुवाएं देंगी।  उन्होंने बताया की माँ शब्द ही सबसे बड़ा शब्द है जिससे सबकी उत्पत्ति हुई है ऐसे में इन्हें सड़कों पर बैठने को मजबूर न करें ।

जिला परिषद् सदस्य, बीडीसी और प्रधानो ने भी दिया समर्थन

इस सारे आन्दोलन की संयोजक पूनम ठाकुर ने आज बताया की उनकी इस मुहीम में जिला परिषद् सदस्य मीना कुमारी, बीडीसी सदस्य प्रवीण कुमार, प्रधान गोवेल्ला पंचायत पंकज भी आज जुड़ चुके हैं जिससे उनका मनोबल बढ़ रहा है। उन्होंने बताया की इससे पहले संधोल पंचायत प्रधान, कोठुवान पंचायत प्रधान, सोहर पंचायत प्रधान सहित करीब आधा दर्जन सामाजिक संस्थाएं उन्हें समर्थन दे चुकी हैं। इसके अलावा करीब सत्तर महिला मंडल भी उनकी इस मुहीम में जुड़ चुके हैं ।

About admin

Check Also

आयुष विभाग ने की बड़ी पहल,हिमाचल में निशुल्क मिलेंगे अश्वगंधा के पौधे

आयुष विभाग ने पहली बार यह पहल की है हिमाचल प्रदेश सरकार लोगों को अश्वगंधा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *